Ramadan 2022 full Details

Ramadan 2022 full Details: Dates, Time, Fasting Rules

30 Days Ramadan Calendar 2022

RamadanDayApril
May
Sehar
Fajr
DhuhrAsrIftar
Maghrib
Isha
1Sat24:14
AM
11:51
AM
3:23
PM
6:06
PM
7:36
PM
2Sun34:13
AM
11:51
AM
3:23
PM
6:07
PM
7:37
PM
3Mon44:12
AM
11:51
AM
3:22
PM
6:08
PM
7:38
PM
4Tue54:10
AM
11:50
AM
3:22
PM
6:08
PM
7:38
PM
5Wed64:09
AM
11:50
AM
3:22
PM
6:09
PM
7:39
PM
6Thu74:08
AM
11:50
AM
3:22
PM
6:09
PM
7:39
PM
7Fri84:06
AM
11:50
AM
3:22
PM
6:10
PM
7:40
PM
8Sat94:05
AM
11:49
AM
3:22
PM
6:10
PM
7:40
PM
9Sun104:04
AM
11:49
AM
3:22
PM
6:11
PM
7:41
PM
10Mon114:03
AM
11:49
AM
3:22
PM
6:12
PM
7:42
PM
11Tue124:01
AM
11:49
AM
3:22
PM
6:12
PM
7:42
PM
12Wed134:00
AM
11:48
AM
3:22
PM
6:13
PM
7:43
PM
13Thu143:59
AM
11:48
AM
3:22
PM
6:13
PM
7:43
PM
14Fri153:57
AM
11:48
AM
3:22
PM
6:14
PM
7:44
PM
15Sat163:56
AM
11:48
AM
3:22
PM
6:14
PM
7:44
PM
16Sun173:55
AM
11:47
AM
3:21
PM
6:15
PM
7:45
PM
17Mon183:54
AM
11:47
AM
3:21
PM
6:16
PM
7:46
PM
18Tue193:52
AM
11:47
AM
3:21
PM
6:16
PM
7:46
PM
19Wed203:51
AM
11:47
AM
3:21
PM
6:17
PM
7:47
PM
20Thu213:50
AM
11:46
AM
3:21
PM
6:17
PM
7:47
PM
21Fri223:49
AM
11:46
AM
3:21
PM
6:18
PM
7:48
PM
22Sat233:47
AM
11:46
AM
3:21
PM
6:19
PM
7:49
PM
23Sun243:46
AM
11:46
AM
3:21
PM
6:19
PM
7:49
PM
24Mon253:45
AM
11:46
AM
3:21
PM
6:20
PM
7:50
PM
25Tue263:44
AM
11:46
AM
3:21
PM
6:20
PM
7:50
PM
26Wed273:43
AM
11:45
AM
3:20
PM
6:21
PM
7:51
PM
27Thu283:42
AM
11:45
AM
3:20
PM
6:22
PM
7:52
PM
28Fri293:40
AM
11:45
AM
3:20
PM
6:22
PM
7:52
PM
29Sat303:39
AM
11:45
AM
3:20
PM
6:23
PM
7:53
PM
30Sun13:38
AM
11:45
AM
3:20
PM
6:24
PM
7:54
PM
Fiqh Jafria: Sehar Time -10min | Iftar Time +10min

Ramadan 2022: रमज़ान इस्लामी कैलेंडर का नौवां महीना होता है. इसे उपवास और प्रार्थना करने के लिए एक पाक महीना माना जाता है. रमज़ान की शुरूआत चांद के दिखने के बाद होती है. भारत में इस बार इस पाक महीने की शुरुआत शनिवार 2 अप्रैल से हो रही है. हालांकि, रमज़ान महीने की तारीख चांद दिखने पर ही तय होगी. रमजान का ये महीना 2 मई को खत्म हो सकता है.

दरअसल इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक, रमज़ान का पहला दिन अमावस्या के दिन से तय होता है. रमज़ान को रमादान या माह-ए-रमज़ान भी कहा जाता है. इस्लामिक मान्यताओं के अनुसार, यही वो महीना था जब मोहम्मद साहब ने इस्लाम धर्म की पवित्र पुस्तक कुरान शरीफ का ज्ञान प्राप्त किया था. तब से ही इस महीने को रमज़ान के तौर पर मनाया जाता है. इस पूरे महीने अल्लाह से सच्चे मन से इबादत की जाती है. साथ ही रोज़ा रखने के अलावा तरावीह की नमाज़ पढ़ी जाती है.


रमजान महीने की विशेषताएं

  • महीने भर के रोज़े (उपवास) रखना
  • रात में तरावीह की नमाज़ पढना
  • क़ुरान तिलावत (पारायण) करना
  • एतेकाफ़ बैठना, यानी गांव और लोगों की अभ्युन्नती व कल्याण के लिये अल्लाह से दुआ (प्रार्थना) करते हुवे मौन व्रत रखना
  • ज़कात देना
  • दान धर्म करना
  • अल्लाह का शुक्र अदा करना. अल्लाह का शुक्र अदा करते हुवे इस महीने के गुज़रने के बाद शव्वाल की पहली तारीख को ईद उल-फ़ित्र मनाते हैं.
  • रमजान महीने के दौरान सभी बुरी आदतों को छोड़ना होता है और दीन के रास्‍ते पर चलना होता है. विद्वानों के अनुसार, इस माह में अल्‍लाह जन्‍नत के दरवाजे खोल देते हैं.