किसी को दिल से निकालने का वजीफा

किसी को दिल से निकालने का वजीफा


किसी को दिल से निकालने का वजीफा – Kisi Ko Dil Se Nikalne Ka Wazifa, Amal, Taweez, Tarika, Upay, Apne, Dua, Dimag, किसी भी कारन से यदि आप किसी को अपने से दूर करना चाहते है और अपने दिल से निकलना चाहते है तो उसके लिए आज हम आपके लिए लेकर आये है किसी को खुद से दूर करने की दुआ और किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल. इसे किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीका भी कहा जाता है

Kisi Ko Dil Se Nikalne Ka Wazifa

दोस्तों आपने हिंदी फिल्मों का ये गाना जरूर सुना होगा, ‘है अपना दिल तो आवारा, ना जाने किस पर आएगा।’ हकीकत में भी इस दुनिया में ऐसा ही होता है।

हमारा दिल कब किस शख्स पर आ जाए यह कोई नहीं बता सकता। यदि मोहब्बत सफल रिश्तों में तब्दील हो जाए तो इंसान अपनी पूरी ज़िन्दगी सुख से व्यतीत करता है, लेकिन कई बार हमारा दिल किसी गलत शख्स से मोहब्बत कर लेता है।

किसी को दिल से निकालने का वजीफा – Kisi Ko Dil Se Nikalne Ka Wazifa, Amal, Taweez, Tarika, Upay, Apne, Dua, Dimag

अक्सर देखा जाता है कि जिस व्यक्ति से हमने मोहब्बत की है वह हमसे बिल्कुल प्यार नहीं करता। ऐसे में प्यार करने वाले व्यक्ति के अंदर एक तड़प और घुटन होने लगती है। वह प्यार में पागल हो चुका होता है। ऐसे समय पर आप किसी को दिल से निकालने का वजीफा का इस्तेमाल कर सकते है।

किसी को दिल से निकालने का वजीफा बहुत ही आसान है। इस वजीफे के इस्तेमाल के साथ ही पाँचों वक्त नमाज की पाबंदी होती है। जो व्यक्ति रोज़ाना नमाज पढ़ता है और सजदे में जाकर अपने गुनाहों की माफी मांगता है, उसकी ज़िन्दगी से सारे दुख दूर होने लगते है। किसी को दिल से निकालने का वजीफा आप किसी भी वक्त की नमाज के बाद पढ़ सकते है-

ला मरगूवी इल्लाहा

ला मतलूबी इल्लाहा

ला महबूबी इल्लाहा

ला इल्लाहा ला इल्लाहा

किसी को दिल से निकालने का वजीफा आपको नमाज के बाद 100 मरतबा पढ़ना है। इसके अलावा रात को सोते समय या अन्य कोई भी काम करते वक्त यदि आपको किसी की याद आती है तब भी आप ये किसी को दिल से निकालने का वजीफा पढ़ सकते है। कुछ दिन तक रोज़ाना ये वजीफा पढ़ने से आपके दिल से उस शख्स की सारी यादें हमेशा के लिए निकल जाएगी।

किसी को खुद से दूर करने की दुआ

किसी को खुद से दूर करने की दुआ – Kisi Ko Khud Se Dur Karne Ki Dua, Wazifa, Amal, Taweez, Tarika, Upay, Apne, Dimag, कई बार ज़िन्दगी में ऐसा होता है कि एक प्रेमी और प्रेमिका एक दूसरे से बेइंतहा मोहब्बत करते है। आपके साथ भी कभी ना कभी ऐसा हुआ होगा और किसी से सच्चा प्यार जरूर हुआ होगा।

लेकिन कई बार हम जानते है कि यह मोहब्बत पूरी ज़िन्दगी साथ नहीं चल सकती। इसके पीछे कई वजह हो सकती है, जैसे आपका या सामने वाले व्यक्ति का शादीशुदा होना। इसके अलावा यदि आप किसी ओर व्यक्ति से मोहब्बत करते है

तब भी आप सोचेंगे कि दूसरे व्यक्ति को खुद से कैसे दूर किया जाए। ऐसी परिस्थिति में आपको किसी को खुद से दूर करने की दुआ पढ़नी चाहिए। इंशाल्लाह इस दुआ की मदद से सामने वाला व्यक्ति खुद ही आपसे दूर हो जाएगा।

Kisi Ko Khud Se Dur Karne Ki Dua

दोस्तों कुरान ए पाक में हज़ारों छोटी-छोटी आयतें है, जिसकी मदद से हम अपनी दुआ अल्लाह तक पहुंचा सकते है। किसी को खुद से दूर करने की दुआ में आपको एक ऐसी ही कुरानी आयत बता रहे है। इस वजीफे के लिए सबसे पहले साफ पाक होकर वुज़ू बना ले। अब आपको 7 मरतबा दुरूद ए शरीफ पढ़ना होगा।
किसी को खुद से दूर करने की दुआ के लिए अब आप 7 मरतबा सुरह कौसर की 131वीं आयत पढ़ें। सुरह कौसर की आयत पढ़ते समय आपको उस शख्स का दीदार अपने मन में करना है।

अंत में एक बार फिर 7 मरतबा दुरूद ए शरीफ पढ़े। 7 दिन तक यदि आप हर रोज़ किसी को खुद से दूर करने की दुआ पढ़ते है तो यकीनन आपका ज़िन्दगी से वह शख्स दूर हो जाएगा।

किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल

किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल – Kisi Ko Apni Zindagi Se Nikalne Ka Amal, Wazifa, Taweez, Tarika, Upay, Apne, Dua, Dimag, एक बार यदि कोई व्यक्ति हमारी ज़िन्दगी में अपनी जगह बना ले तो उसे दिल से निलाकना आसान नहीं होता। अविवाहित युवा लोगों की ज़िन्दगी में प्यार-मोहब्बत होना एक आम बात है।

लेकिन अक्सर ऐसा देखा जाता है कि जिस व्यक्ति से हम प्यार करते है उसकी शादी कहीं और पक्की हो जाती है। या फिर हमारा पार्टनर किसी मकसद से दूसरे देश चला जाता है। इसके अलावा कई बार पार्टनर को हमारी कोई बात बुरी लग जाती है,

जिसके कारण वह हमसे ब्रेकअप कर लेता है। भले ही वह हमसे दुनिया के सारे रिश्ते क्यों ना तोड़ ले, लेकिन दिल का रिश्ता तोड़ना इतना आसान नहीं होता है। किसी को अपने दिल से या ज़िन्दगी से निकालने के लिए आप किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल कर सकते है।

Kisi Ko Apni Zindagi Se Nikalne Ka Amal

किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल आपको जुमे के दिन से शुरू करना है। यह अमल आप खुद भी कर सकते है। इसके अलाव यदि घर का कोई शख्स प्यार-मोहब्बत में पागल हो गया है और आप उसके मन से किसी का ख्याल निकालना चाहते है तब भी आप किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल का इस्तेमाल कर सकते है।
इसके लिए आपको तीन बार दुरूद ए पाक पढ़ना है। अब तीन बार बिस्मिल्लाह हिर्र रहमान रहीम पढ़े। और अंत में एक बार फिर तीन मरतबा दुरूद ए पाक पढ़कर पानी पर दम कर दे। किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल के लिए यह पानी पीयें।

इसके अलावा घर के किसी अन्य शख्स या मित्र को भी आप ये दम किया हुआ पानी पिला सकते है। किसी को अपनी ज़िन्दगी से निकालने का अमल आपको एक हफ्ता यानी अगले जुमे तक करना होगा।

किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीका

किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीका – Kisi Ko Bhul Jane Ka Qurani Tarika, Wazifa, Amal, Taweez, Upay, Apne, Dua, Dimag, यदि हमारा कोई मित्र या करीबी किसी गलत प्यार में फंस गया है या फिर उसे प्यार में धोखा मिला है तो हम उसे कह देते है कि उस शख्स को हमेशा के लिए भूल जाए। असल में ये बात कहनी और उस पर अमल करने में बहुत बड़ा अंतर होता है।

ये तो केवल वही शख्स जानता है, जिसे प्यार में धोखा मिला है। यदि आपको भी किसी ने प्यार में धोखा मिला है और आप उसे हमेशा के लिए भूल जाना चाहते है तो किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीका का इस्तेमाल कर सकते है।

दोस्तों ध्यान रखिए किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीका के इस्तेमाल से पहले मौलवी जी की इजाजत अवश्य लें। वहीं कई बार शादीशुदा लोगों को भी किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीका जानने की जरूरत पड़ जाती है।

Kisi Ko Bhul Jane Ka Qurani Tarika

शादी के बाद कई बार शौहर और बीवी के बीच लड़ाई होने लगती है और बात तलाक तक पहुंच जाती है। कोर्ट कचहरी मे तलाक भी हो जाता है, लेकिन हम उस शख्स को दिल से नहीं निकाल पाते ऐसे लोग किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीकाअपना सकते हैं।

इसके अलावा ज़िन्दगी में ऐसी विकट परिस्थिति भी आ जाती है, जब प्रेमी-प्रेमिका या पति-पत्नी में से किसी की मौत हो जाती है। उसकी मौत का दुख कई सालों तक लोग दिल में छिपाकर रखते है और उसकी याद में खाना पीना भी बंद कर देते है।

कई बार उस मरे हुए व्यक्ति की आत्मा और साया हमारे सपने में भी आते है। यदि आप इन सब समस्याओं से छुटकारा पाना चाहते है तो किसी को भूल जाने का क़ुरानी तरीका की मदद ले सकते है।

किसी के दिल में मोहब्बत पैदा करने के लिए वजीफा

किसी के दिल में मोहब्बत पैदा करने के लिए वजीफा


किसी के दिल में मोहब्बत पैदा करने के लिए वजीफा – Kisi Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ke Liye Wazifa, Dua, Amal, यदि आप किसी भी लड़के या लड़की या कोई भी जिसके दिल मे आप मोहब्बत जगाना चाहते है तो हम आज आपको महबूब के दिल में मोहब्बत पैदा करने का वजीफा बता रहे है. इसके अलावा आज हम आपको दुश्मन के दिल में मोहब्बत पैदा करने का वजीफा और सास के दिल में मोहब्बत पैदा करने का वजीफा भी बतायेगे

Kisi Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ke Liye Wazifa

परिवार-समाज में सभी रिश्ते-नाते मोहब्बत की बुनियाद पर ही टिके होते हैं। कोई किससे कितना प्यार करता है, और किसके दिल में कैसी बेशुमार मोहब्बत है, इसका अंदाजा लगाना आसान नहीं होता।

जबकि किसी व्यक्ति के दिल में बेमिसाल मोहब्बत अवश्य पैदा की जा सकती है। हर महबूब अपनी महबूबा के दिल में मोहब्बत पैदा करने की कोशिश करत है, तो किसी महबूबा की एकमात्र ख्वाहिश होती है कि उसका मेहबूब उसे बेइंतहा प्यार करे।

किसी के दिल में मोहब्बत पैदा करने के लिए वजीफा- Kisi Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ke Liye Wazifa, Dua, Amal

मिंया-बीवी हों, सास और बहू हों या फिर परिवार के दूसरे सदस्य, हर किसी के दिल में बना एक-दूसरे के प्रति प्रेम ही परिवार और समाज में परंपरागत संस्कार व मान-मर्यादा को बढ़ाने में सहायक बनता है।

यह सर्वमान्य है कि मोहब्बत में खुदा का वास होता है। इंसान उसी खुदा की खिदमत कर हर किसी के दिल में भी मोहब्बत की अलख जगा सकता है। इस्लाम में किसी की मोहब्बत हासिल करने से लेकर दूसरे के दिल मंे मोहब्बत पैदा करने के लिए सच्चे मन से अल्लाह के इबादत की सलाह दी गई है।

कुरान-ए-पाक में कई आयतें हैं, जिन्हें कायदे से पढ़ने पर उसका असर एक बेहतरीन वजीफे की तरह होता है। इन दुआओं से सगे-संबंधी और हितैषी क्या, दुश्मन तक के दिल में मोहब्बत पैदा की जा सकती है। वह वजीफा इस प्रकार हैः-

नादे अलिय्यम-मजहरल अजाइबी अवनल्ल्का फिन्नवाइबी कुल्लू हम्मिंव व ग़म्मिन स यनजली बिरहमतिका या अल्लाहू बिनबूव्वतिका या मुहम्मदु सूलल्लाही वबी विला यातिका या अलिय्यु, या अलिय्यु, या अलिय्यु

महबूब के दिल में मोहब्बत पैदा करने का वजीफा

महबूब के दिल में मोहब्बत पैदा करने का वजीफा – Mahaboob Ke Dil Mai Mohabbat Paida Karne Ka Wazifa, Dua, Amal, यदि कोई लड़की किसी लड़के को बेहद पसंद करती है, और उससे बेपनाह मोहब्बत कर बैठती है तब उम्मीद करती है कि उसका महबूब भी उसे बहुत प्यार करे।

जबकि कोई जरूरी नहीं कि वह लड़का भी उससे मोहब्बत करे। लड़की द्वारा सुंदरता और आचार-व्यवहार से प्रेमी को रिझाने की कोशिशें जब बेकार हो जाती है तब उसे इस्लामी वजीफे का सहारा लेना चाहिए, ताकि अपने महबूब के दिल में मोहब्बत पैदा कर सके।

डेटिंग पर जाने, सोशल साइटों पर आकर्षक शेरो-शायरी के साथ चैटिंग और फोन पर बातें करने, या फिर तारीफों का पुल बांधने जैसे कामों में वजीफे की दुआएं काफी सहायक बनती हैं। वजीफा ठीक से तभी काम करता है जब उसे आप खुद के दम पर इस्लामी तरीके के साथ पढ़ते हैं।

Mahaboob Ke Dil Mai Mohabbat Paida Karne Ka Wazifa

  • महबूब के दिल में मोहब्बत पैदा करने वाले को चाहिए कि वह ऊपर दिए गया वजीफा सुबह साढ़े 11 बजे तक चाश्त के वक्त में पढ़े।
  • शुरूआत किसी भी जुमे के रोज यानी शुक्रवार के दिन से की जा सकती है। पाक-साफ होकर पहले वुजू बना लें। फिर फज्र से चाश्त के दरम्यान 47 मरतबा वजीफा ‘नाद-ए-अली को पढ़ें।
  • उसके बाद अपने महबूब से फोन पर बातें करें, या मिलने के वास्ते मैसेजिंग दें। आप पाएंगे कि माशूक मोहब्बत का दीवाना बन हैरान-परेशान होकर मिलने के लिए बेकरार हो जाएगा। महबूब से बात नहीं कर पाने की स्थिति में उसकी तस्वीर पर दम कर सकते हैं।
  • इस वजीफे को हैज या माहवारी के दिनों को छोड़कर हर जुमे के रोज पढ़ा जा सकता है। इसकी कोई मियाद नहीं होती है।

दुश्मन के दिल में मोहब्बत पैदा करने की दुआ

दुश्मन के दिल में मोहब्बत पैदा करने की दुआ – Dushman Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ki Dua, Wazifa, Amal, इस्लामी दुआओं में काफी दम होता है। इसका असर लंबे समय तक बना रहता है। उसके लिए कुरान-ए-पाक में बताए गए वजीफे को अगर सही तरह से नियमित तौर पर पढ़ा जाए, तो दुश्मन के दिल में भी मोहब्बत पैदा की जा सकती है। गलत तरीके से नुकसान भी हो सकता है।

पुरानी से पुरानी दुश्मनी हमेशा के लिए खत्म की जा सकती है। जानकार मौलवी से इसके तरीके की जानकारी लेकर दुश्मन के नाम और तस्वीर के साथ अल्लाह से दुआ करनी चाहिए कि उनकी दुश्मनी दोस्ती में बदल जाए।

Dushman Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ki Dua

  • इसकी शुरूआत किसी भी दिन प्रातः सात से दस बजे के बीच कर सकते हैं। घर के किसी एकांत कोने में सुकून की जगह पर चादर बिछाएं और वुजू कर बैठ जाएं। बिस्तर चाहे जमीन पर हो या फिर चैकी पर, उसका पाक-साफ होना जरूरी है।
  • दुआ के लिए वजीफा पढ़ने से पहले 11 बार दुरूद शरीफ पढ़ें।
  • उसके बाद कुरान-ए-पाक में दिए गए सुराह युसुफ की आयत 30 के एक छोटा से हिस्से को बिस्मिल्लाह शरीफ पढ़कर 101 मरतबा पढ़ें।
  • आखिर में दुरूद शरीफ को एक बार फिर से 11 बार पढ़ें।
  • इसे पढ़ते समय उस व्यक्ति की तस्वीर जेहन में बिठा लें और अंत में अल्लाह से दुआ करें कि वे उसके दिल में मोहब्बत पैदा करे, ताकि दश्मनी हमेशा के लिए खत्म हो जाए। उसकी तस्वीर पर दम भी कर सकते हैं।
  • यह वजीफा कायदे से 11 दिनों तक लगातार अवश्य पढ़ें। नतीजे नहीं आने पर 21 दिनो तक पढ़ सकते। इसे कोई महिला भी पढ़ सकती है, लेकिन उसे माहवारी के दिनों में परहेज के साथ अल्लाह से दुआ करनी चाहिए।

सास के दिल में मोहब्बत पैदा करने का वजीफा

सास के दिल में मोहब्बत पैदा करने का वजीफा – Saas Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ka Wazifa, Dua, Amal, सास और बहू के बीच अनबन का होना बहुत ही साधारण बात है। हर बहू चाहती है कि सास के दिल में उसके प्रति मोहब्बत बनी रहे। ऐसी बहू सास का दिल जीतने की पूरी कोशिश करती है,

लेकिन कई बार नाकामी भी मिलती है। इस स्थिति में इस्लामी वजीफा पढ़कर सास के दिल में मोहब्बत पैदा करने की कोशिश करने से बहू निश्चित तौर पर सफल हो सकती है।

वजीफे को बहुत ही सावधानी बरतते हुए और नियम के साथ पढ़ना चाहिए। वह वजीफा है- वा तम्मत कलिमातु रब्बीका सिद्दकनवा वा अल्ल, ला मुबद्दीला ली कलिमातिह, वा हुवास समीउल अलीम।

Saas Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ka Wazifa

माहवारी के दिनों को छोड़कर किसी भी दिन इसकी शुरूआत की जा सकती है। बगैर नागा किए हुए कम से कम 11 दिन या फिर 21 दिनों तक रात को सोने से ठीक पहले वजीफ पढ़ना चाहिए।
सबसे पहले ताजा वुजू बनाकर पहले 11 बार दुरूद शरीफ पढ़ें। उसके बाद ऊपर वर्णित वजीफे को 101 बार पढ़ें।
अंत में एक बार फिर से 11 बार दुरूद शरीफ को पढ़ें। वजीफा पढ़ने के दौरान अपनी सास का ख्याल जेहन में बनाए रखें। साथ में उनके पसंद की किसी चीज पर दम करें और आगले रोज सास को भेंट कर दें। कुछ नहीं हो तो एक पुड़िया चीनी पर ही दम कर उन्हें शरबत बनाकर पिला दें।
Yadi aap chahte hai kisi ladki ya ladka ya koi bhi jiske dil mai aapke liye mohabbat paida ho jaye to hum aaj aapko dege Kisi Ke Dil Mein Mohabbat Paida Karne Ke Liye Wazifa, Dua, Amal.

नफरत पैदा करने का वजीफा

नफरत पैदा करने का वजीफा


नफरत पैदा करने का वजीफा – Nafrat Paida Karne Ka Wazifa, Amal, Taweez, Tarika, Upay, Dua, यदि आप किसी भी कारन से दो लोगो मे नफरत फैलाना चाहते है तो हम आज आपको देंगे किसी के दिल में नफरत पैदा करने का वजीफा और दो लोगो में नफरत डालने का अमल. इस को किसी के दरमियान जुदाई डालने का वज़ीफ़ा भी कहा जाता है

Nafrat Paida Karne Ka Wazifa

इस दुनिया में मोहब्बत का रिश्ता बहुत ही खास और प्यारा होता है, फिर वह रिश्ता चाहे दो दोस्तों का हो, प्रेमी-प्रमिका का हो या फिर पति-पत्नी का। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि कोई तीसरा शख्स इस मोहब्बत के रिश्ते को तोड़ने की कोशिश करता है।

नफरत पैदा करने का वजीफा – Nafrat Paida Karne Ka Wazifa, Amal, Taweez, Tarika, Upay, Dua

कुछ लोगों से दूसरों की खुशी बर्दाश्त नहीं होती और अक्सर वह दो लोगों के बीच में घुसने की कोशिश करते है। यदि आपको लगता है कि आपके रिश्ते के बीच में भी कोई बाहरी व्यक्ति दख्ल देने की कोशिश कर रहा है तो आप नफरत पैदा करने का वजीफा का इस्तेमाल कर सकते है।

नफरत पैदा करने का वजीफा की मदद यदि कोई आपके पार्टनर को आकर्षित करने की कोशिश करता है तो आपके पार्टनर के मन में उसके प्रति नफरत पैदा होनी शुरू हो जाएगी।

यदि कोई व्यक्ति आपके घर में बार-बार आता जाता है और उसका घर में आपको पसंद नहीं है तो आप इस नफरत पैदा करने का वजीफा का इस्तेमाल कर सकते है। इसके लिए आपको एक ताबीज़ बनानी पड़ेगी। ताबीज़ किस तरह बनानी है वो भी हम आपको बता देते है। सबसे पहले एक कोरा कागज ले और उसके उपर नीचे दिया गया नख्श बना दें-

8 11 14 1
13 20 7 12
3 16 9 22
5 15 8 6

नफरत पैदा करने का वजीफा के लिए इस नख्स के नीचे उस व्यक्ति का नाम लिख दें, जिसको आप खुद से या फिर अपने जीवनसाथी से दूर करना चाहते है।

इसके बाद इस ताबीज़ को एक लाल कागज में लपेटकर घर के दरवाजे के ऊपर लटका दें। नफरत पैदा करने का वजीफा के बाद वह शख्स कभी आपके घर नहीं आ पाएगा और उसके मन में बहुत नफरत पैदा हो जाएगी।

किसी के दिल में नफरत पैदा करने का वजीफा

किसी के दिल में नफरत पैदा करने का वजीफा – Kisi Ke Dil Mein Nafrat Paida Karne Ka wazifa, Amal, Taweez, Tarika, Upay, Dua, कई बार ऐसा होता है कि शादी के कुछ सालों बाद मियां बीवी के बीच प्यार कम होने लगता है। ऐसे में शौहर घर के बाहर या ऑफिस में किसी अन्य महिला के साथ इश्क करने लगते है।

इस दुनिया में कोई भी बीवी ऐसा नहीं चाहेगी कि उसका शौहर किसी और की तरफ आँख उठाकर भी देखें। तो यदि आपको लगता है कि आपके पति के किसी अन्य महिला के साथ संबंध है और आप उन दोनों को अलग करना चाहती है तो किसी के दिल में नफरत पैदा करने का वजीफा का इस्तमाल अवश्य करें।

इस वजीफे के इस्तेमाल के बाद आपके पति और अन्य महिला के बीच इतनी नफरत पैदा हो जाएगी कि दोनों एक-दूसरे को देखना भी पसंद नहीं करेंगे।

Kisi Ke Dil Mein Nafrat Paida Karne Ka wazifa

किसी के दिल में नफरत पैदा करने का वजीफा का इस्तेमाल आपको रात में सोने से पहले पढ़ना है। इसके लिए महिला को नीचे दिया गया वजीफा 21 बार पढ़ना है और एक गिलास हल्दी वाले दूध में दम कर देना है। इसके बाद आपको वह दूध अपने शौहर को पिलाना है। चलिए किसी के दिल में नफरत पैदा करने का वजीफा जान लेते है-
ला इलाहा इल्लाहा अंता सुबाहनका इंतु उल मिज्जालीन अल्लाहू नूरूस्माती खुजहु सितल्वा अर्जी लाता

किसी के दिल में नफरत पैदा करने का वजीफा के लिए आपको 21 दिन तक रोज़ाना रात को अपने शौहर को यह दूध पिलाना है। दूध की जगह आप पानी के ऊपर भी ये वजीफा कर सकती है, लेकिन उसमें थोड़ा अधिक समय लग सकता है। तीन हफ्तों के भीतर आपके पति के मन में अन्य प्रेमिका के प्रति नफरत पैदा हो जाएगी।

किसी के दरमियान जुदाई डालने का वज़ीफ़ा

किसी के दरमियान जुदाई डालने का वज़ीफ़ा – Kisi Ke Darmiyan Judai Dalne Ka Behtreen Wazifa, Amal, Taweez, Tarika, Upay, Dua, कई बार ऐसा होता है कि एक महिला को शौहर का प्यार नसीब नहीं हो पाता और इसीलिए अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए वह अन्य व्यक्तियों के साथ मोहब्बत करने लगती है।

एक शौहर तो सुबह अपने काम पर निकलकर सीधे रात में ही घर वापस आता है, ऐसे में महिला अपना दिल बहलाने के लिए बाहर से लोगों को घर पर बुलाना शुरू कर देती है। ये सब करना अल्लाह की नज़र में बड़ा गुनाह है।

यदि किसी पति को अपनी पत्नी पर शक है कि उसका किसी के साथ अफेयर चल रहा है और आप उन दोनों को अलग करना चाहते है तो किसी के दरमियान जुदाई डालने का वज़ीफ़ा पढ़ सकते है।

Kisi Ke Darmiyan Judai Dalne Ka Behtreen Wazifa

किसी के दरमियान जुदाई डालने का वज़ीफ़ा बहुत ही शक्तिशाली है और इसकी मदद से आप किन्ही भी दो प्यार करने वाले लोगों के बीच जुदाई डाल सकते है। इसके लिए जुमे के दिन एक कागज लें और उसके ऊपर किसी के दरमियान जुदाई डालने का वज़ीफ़ा लिख दें-
ला अल हुला कैना बैना हमुल अदा वैता वी ला इल्लाही यजुमल कल्लायाही

इसके बाद इस वजीफे के नीचे आप अपनी बीवी और उसके महबूब या फिर कोई भी दो लोगों का नाम लिख दें जिन्हें आप अलग करना चाहते है।

इसके बाद रात में 11 बजे कब्रिस्तान में जाकर दो कब्र के बीच यह किसी के दरमियान जुदाई डालने का वज़ीफ़ा दबा दें। वजीफा दबाने के बाद 111 बार यह वजीफा पढ़ें और घर आ जाए। यह वजीफा अगले दिन से ही अपना असर दिखाना शुरू कर देगा।

दो लोगो में नफरत डालने का अमल

दो लोगों में नफरत डालने का अमल – Do Logo Me Nafrat Dalne Ka Amal, Wazifa, Taweez, Tarika, Upay, Dua का इस्तेमाल आप प्यार मोहब्बत के अलावा अन्य कामों के लिए भी इस्तेमाल कर सकते है। जैसे यदि आपका बेटा किसी गलत संगत में पड़ गया है या फिर आपकी बेटी को कोई फंसाने की कोशिश कर रहा है तो भी आप दो लोगो में नफरत डालने का अमल की मदद ले सकती है।

लेकिन एक बात का खास ध्यान रखें कि इस अमल का इस्तेमाल हमेशा नेक नियत और जायज़ मकसद के साथ ही करना चाहिए। इसके अलावा यदि आप किन्हीं दो लोगों के बीच नफरत पैदा करना चाहते है तो हमसे भी संपर्क कर सकते है।

Do Logo Me Nafrat Dalne Ka Amal

यदि आपका जीवनसाथी या महबूब किसी अन्य व्यक्ति से मोहब्बत करने लगा है तो भी आप दो लोगो में नफरत डालने का अमल का इस्तेमाल कर सकते है। इसके लिए आपको अपने महबूब के इतना करीब जाना होगा कि उसके मन में अन्य किसी शख्स का ख्याल भी ना आए।

अपने प्रेमी के करीब जाने और अन्य व्यक्तियों के प्रति उसके मन में मोहब्बत पैदा करने लिए आप दो लोगो में नफरत डालने का अमल पढ़ सकती है। इसके लिए पाँचों वक्त की नमाज पढ़ना शुरू कर दीजिए। साथ ही दिन में कम से कम एक बार सुरह सुसुफ की आयत 30 अवश्य पढ़े। ऐसा करने से आपका आपके प्रेमी का रिश्ता अटूट हो जाएगा।

Yadi kisi bhi karan se aap chahate hai ki 2 logo mai ladai ho jaye or wo alag ho ke nafrat karne lag jaye to aaj hum aapko iska wazifa/dua/amal dege.

हर ख्वाहिश के लिए सूरह कौसर का वजीफा

हर ख्वाहिश के लिए सूरह कौसर का वजीफा


हर ख्वाहिश के लिए सूरह कौसर का वजीफा – Har Khwaish Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa, Amal, Dua, हर इंसान के मन मे कोई न कोई ख्वाहिश होती है, आज हम इसके लिए आपके बतायेगे मोहब्बत के लिए सूरह कौसर का वजीफा और दुश्मन के लिए सूरह कौसर का वजीफा। इसके अलावा आप के लिए लाये है औलाद के लिए सूरह कौसर का वजीफा।

Har Khwaish Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa

अगर आप सूरह कौसर का वजीफा करना चाहते हैं।तो हम आपकीखितमत में हाजिर है।वजीफा बेहद ही आसान और पावरफुल है।बहुत ही छोटी सी आयत है इसकी बहुत सीफजीलत है।छोटी सी आयत में पूरे कायनात को समेटा हुआ है बहुत ही फजीलत है।

हर ख्वाहिश के लिए सूरह कौसर का वजीफा

आपका कोई काम ना हो रहा हो तो सूरह कौसर का अमल करें।अपने काम कोआसान करें।इंसान के दिल में एक नहीं हजार ख्वाहिश होती है और उन्हें ख्वाहिशों को पूरा करने के लिए हमें अपनी हर जद्दोजहद कोशिशें करनी चाहिए।

जिससे हम अपनी ख्वाहिशों को पा सके और अपने हाथों में कामयाबी को हासिल कर ले।लेकिन हमको कहीं ना कहीं नाकामी मिल जाए।तो हमें परेशान नहीं होना चाहिए।हमें अपनी ख्वाहिश को नहीं छोड़ना चाहिए।इस ख्वाहिश को हमेशा

अपने दिल में बसाना चाहिए। यही ख्वाहिश एक दिन हम को कामयाब जरूर करती है। ख्वाहिश ही हमारा सबसे बड़ा जुनून है जिसको हमें अपने दिल में रखना चाहिए।हम आपको हर ख्वाहिश के लिए सूरह कौसर का वजीफा बताते हैं

सादा वजीफा है इसकी बरकती बहुतसी है। इसवजीफे को आपको जुम्मे के दिन से शुरू करना है।आप जब तक चाहे इस वजीफे को कर सकते हैं।नमाज पढ़ने के बाद आपको 10 बार सूरह कौसर की तिलावत करनी होगी।

फिर अल्लाह रब्बुल इज्जत की हम्द दो सना करने के बाद अपनी ख्वाहिश के लिए दुआ करनी होगी।इंशाल्लाह आप इस वजीफे से बहुत ही कामयाब होंगे।जुम्मे का दिन बहुत ही फजीलतका दिन है।

मोहब्बत के लिए सूरह कौसर का वजीफा

मोहब्बत के लिए सूरह कौसर का वजीफा – Mohabbat Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa, Amal, Dua, एक रात का वजीफा है।1 दिन ही में आप अपनीमोहब्बत के दिल दिमाग परकब्ज़ा कर लेंगे।उसके दिल में मोहब्बतपैदा हो जायगी। इस वजीफे को लड़की या लड़का किसी की मोहब्बत हासिल करने के लिए करसकते हैं।

लेकिन मकसद नेक होना चाहिए।किसी को परेशान करना या सताना आपका मकसद नहीं होना चाहिए।आपवजीफाखुदकरें।किसी के पास जाने की जरूरत नहीं है खुद ही वजीफा कर सकते हैं।

अपनी किस्मत को खुदआजमाएंअल्लाह के कलाम से सब कुछ मुमकिन है।आपका इरादा पक्का हो तो आपको नाकामी कभी भी नहीं देखने को मिलती।बस आपको अपना इरादा पुख्ता रखना है।

इस वजीफे को करते वक्त आपको नियत पाक रखनी है याकीनकामिल के साथ आप इस वजीफे की शुरुआत करें हैं।अल्लाह ताला के रहमों करम से इंशाल्लाह जरूर कामयाबी हासिल होगी।

Mohabbat Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa

ईशा की नमाज के बाद आपको इस वजीफे को करना है।अव्वल आखिर 11/11 बार आपकोदरूद शरीफ पढ़नी है।आपको बावजू कमरे में अगरबत्ती खुशबू लगाना है।तीन बार अतल कुर्सी पढ़नीहै चारों कुल पढ़कर अपने जिस्म का आसार करने हैं।

साथ ही साथ इजाजत भी हासिल करनीहैं। इस वजीफे के लिए आपको 21 मिर्च लेनी है।अगर कोयले की आग में जाए तो ज्यादा बेहतर है।सारी मिर्चपर मुकम्मल पढ़ाई कर ले।

उसको अपने पास रखना है मिर्च को इकट्ठा जलाना है। 21 मिर्च पर 121 बार सूरह कौसर पढ़ना है और पढ़ कर मिर्च पर दम करना है।जहन में सबर और दुनिया के ख्यालात से पाकरखना है।आप इस वजीफे से जरूर कामयाब होंगे।

दुश्मन के लिए सूरह कौसर का वजीफा

दुश्मन के लिए सूरह कौसर का वजीफा – Dushman Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa, Amal, Dua, वजीफा दुश्मन से हिफाजत करने के लिए है।लेकिन आप इस से एक नहीं कई फायदा उठा सकते हैं।इस आयत की बहुत सारी फजीलत है।यह सूरह कौसर कुरान शरीफ की सबसे छोटी आयत शरीफ है।

बहुत ही मुबारक आयत है आपकी तमाम मुश्किलों को इंशाल्लाह दूर करेगी।अगर आप इस की तिलावत रोजाना करते हैं तो इसकी बहुत सारी फजीलत है इंशाल्लाह आपको यकीनन हासिल होगी। इस मुबारक आयतको अगर आप चाहे तो याद कर ले और जहन में बैठा ले।

और हर वक्त उल्टे बैठते चलते-फिरते पढ़ें इंशाल्लाह हर तरह से आपकीहिफाज़त रहेंगी।अगर आप दुश्मन से बचने के लिए इस वजीफे का अमल करना चाहते हैं।तो वजीफे को तहसील से समझे जिस भी मकसद के लिए आप इस वजीफे को करना चाह रहे उस मकसद को अपने जहन में बिठाले।

Dushman Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa

अपनी हर परेशानियों को इस वजीफे से दूर करें।सिर्फ और सिर्फ 3 दिन का आसान वजीफा है।इसकी मुद्दत 3 दिन की है जुम्मे के दिन से हफ्ते तक करना है यानी जुमेरातजुमहशनिवार।बड़ी से बड़ी परेशानियां इंशाल्लाह दुश्मन से फतेहहोंगी।

जुम्मे रात जब आप फजर की नमाज पढ़ ले।उसके बाद आपको 11/11 मर्तबा दुरु शरीफ और 129 बारसूरह कौसरपढ़नी है।उसी दिन असर की नमाज पढ़ने के बाद दोबारा इसी तरह आपको 11/11 बारदुरु शरीफ129 बार सूरह कौसरपढ़े।

ऐसे ही ईशा की नमाज के बाद 11/11 बारदुरु शरीफ129 बार सूरह कौसरपढ़े।इसी तरह 3 दिन लगातार इसवजीफे को तीनवक्त में करतेरहें।इंशाल्लाह आपका मकसद रद्द नहीं होगा।

औलाद के लिए सूरह कौसर का वजीफा

औलाद के लिए सूरह कौसर का वजीफा – Aulad Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa, Amal, Dua, वजीफा बहुत ही पावरफुल है।एक बार जरूर करें कई बार ऐसा होता है।कि शादी के सालों साल हो जाते हैं और आप औलाद की खुशी से महरुम रहते हैं।

शादीशुदा रिश्ते की कामयाबी और उसको मुकम्मल करने के लिए औलाद बहुत ही बड़ीनेमत है।लेकिन कुछ लोग इस औलाद की नेमत से महरुम रहते हैं।आप परेशान बिल्कुल भी मत होइए।

क्योंकि अल्लाह रब्बुल इज्जत सबको अपनी नेमतों से नवाजने वाला है।अल्लाह पर भरोसा कर आप एक बार वजीफेको करें।अल्लाह कभी भी अपने बंदों को खाली हाथ नहीं रखता। ना ही अपने बंदोंको कभी ना उम्मीद करता है।

वोही हमें दुनिया में लाया है किसी ना किसी मकसद के लिए और इंशाल्लाह वही हमारी परेशानियों को दूर करने वाला है।औलाद को हासिल करने के लिए आपको इस वजीफे को इस तरह करना है।रोजाना 3 बार दरूद इब्राहिमी पढ़ना है।

Aulad Ke Liye Surah Kausar Ka Wazifa

اللهصَلّعلىمُحنَدوعلىالِمُحَقَِدِكماصليتعلىإبراهيموعلىآلإبراهيم } إنكحميدمجيداللهباركعلىمحمدعلىالمکنَدِگهابارگتعلىإبراهيموعلىالابراهيمانكکويدچد

आपको तीन बार दरूदे इब्राहिम पढ़ने के बाद 101 मर्तबा सूरह कौसर पढ़नी है। انااعطيكالكوثرفصللربكاناشانئكهواكتر सूरह कौसर कुरान शरीफ के तीसरे पारे में आपको मिल जाएगी यह बहुत ही छोटी सी सूरह है।

औलाद के लिए आप सूरह कौसर के आसान से वजीफेको एक बार जरूर आजमा कर देखें।अल्लाह के फ्जलो करम से आपको जरूर कामयाबी हासिल होगी।यकीन कामिल के साथ एक बार इस वजीफे को करें।

शादी के लिए घर वालों को मनाने का वजीफा

शादी के लिए घर वालों को मनाने का वजीफा


शादी के लिए घर वालों को मनाने का वजीफा – Shadi Ke Liye Ghar Walo Ko Manane Ka Wazifa, Tarika, Dua, Upay, Amal, आजकल लड़का और लड़की अपने पसंद से शादी करना चाहते है पैर घरवाले इसके लिए नहीं मानते, इसलिए आपको आज बतायेगे मोहब्बत की शादी के लिए घर वालो को मनाने की दुआ. इसे लड़की के घर वालो को मनाने का वज़ीफा और माँ बाप को शादी के लिए राजी करने की दुआ भी कहा जाता है

Shadi Ke Liye Ghar Walo Ko Manane Ka Wazifa

एक तरफ हर लड़का या लड़की अपनी प्रेमिका या प्रेमी से शादी करना चाहते हैं। उनके लिए जाति, धर्म और अमीरी-गरीबी कोई मायने नहीं रखता है। दूसरी तरफ उनके मां-बाप या घरवाले अपने शादी-ब्याह के मामले में कुल-खानदान, संस्कार और सामाजिक मान-मर्यादा को ही तरजीह देते हैं।

शादी के लिए घर वालों को मनाने का वजीफा – Shadi Ke Liye Ghar Walo Ko Manane Ka Wazifa, Tarika, Dua, Upay, Amal

यही कारण है कि अधिकतर प्रेमी-युगल को अपनी शादी के लिए घरवालों को राजी करने में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। कई बार बात असानी से बन जाती है, लेकिन ज्यादातर मामले में घर वाले अपनी जिद पर अड़े रहते हैं। ऐसे में र्कुआन-ए-पाक में दिए गए विशेष आयत का वजीफा पढ़ना बहुत ही कारगर उपाय साबित हो सकता है।

अगर आप जिनको पसंद करते हैं, उनके किसी और मजहब या जाति की वजह से आपके वालिदें आपकी शादी के लिए नहीं मान रहे हैं, तो आपको घरवालों को मनाने का वजीफा निम्न तरीके से लगातार 21 दिनों तक पढ़ना चाहिए। ध्यान रहे अल्लाह से तहेदिल से की गई आरजू अवश्य कुबूल होती है।

सुरेह इखलास की वह आयत है- कुल हुवल्लाहु अहद, अल्लाहस्समद। लम यलिद व लम यूलद। व लम युल्लहू कुफुवल अहद।
इसे किसी भी दिन से शुरू किया जा सकता है, लेकिन समय सुबह 11 बजे तक ही होना चाहिए।
इसे प्रतिदिन 111 बार पढ़ने से पहले और बाद में दुरूदे पाक सल्लाहो अलैहि वसल्लम को तीन-तीन बार पढ़ा जाता है।
किसी तरह के टोटके या ताबीज की जानकारी के लिए किसी मौलवी से सलाह-मश्वीरा किया जाना चाहिए। लड़की द्वारा वजीफा पढ़े जाने की स्थिति में उसे माहवारी के दिन में नहीं करना चाहिए।

मोहब्बत की शादी के लिए घर वालों को मनाने की दुआ

मोहब्बत की शादी के लिए घर वालों को मनाने की दुआ – Mohabbat Ki Shadi Ke Liye Ghar Walo Ko Manane Ki Dua, Wazifa, Tarika, Upay, Amal, माशूका के लिए मोहब्बत में जान कुर्बान करने की हिम्मत रखने वाले माशुक को अपने ही घर वालों को राजी करने में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

वह किसी तरह से अगर उन्हें शादी के लिए राजी करने में सफल हो जाता है, लेकिन उसकी महबूबा के लिए यह आसान नहीं होता। लड़की अपने महबूब से ही निकाह के लिए तड़प उठती है, जबकि उसके घरवाले उसकी पसंद को अपनाने के सख्त खिलाफ होते हैं।

ऐसे में अल्लाह की शरण में जाकर अपनी मनपसंद की शादी के लिए उनसे मिन्नतें-आरजू करना ही एकमात्र उपाय हो सकता है। उसका तरीका इस प्रकार है-

Mohabbat Ki Shadi Ke Liye Ghar Walo Ko Manane Ki Dua

  • सबसे पहले चंदन के पावडर में पानी मिलाकर उसका पतला पेस्ट बना लें। फिर एक केले के पत्ते पर लकड़ी की कलम से र्कुआन में बताए गए वजीफे को लिखें।
  • वह वजीफा है-‘‘ हाविज जाम नादिरु जाजी हमितुल हुवा, वाल लल्देई सिरा शाहिर कुफ्जी नबूर हाल्तु कफ्फा, वाल निल नासिम रुसन अल रसूल वल्दाही आयदीन याम वाली कुसा अन्कुम जामी वा लाहिर, जुल्म युदा यकीदा जुकीदा जाकिम, जिफर नबुल अन्हुम लाफी जुबीर बिबानी, वाल मक्तर फिरु मिना गइ बड़ी अन राफिस।‘’
  • गीले चंदन के सूखने पर पत्ते को लपेटकर उसे लाल रिबन से लपेट दें और हाथ में लेकर इसी वजीफे को 25 बार पढ़ें।
  • इससे पहले अंत में सात-सात बार दूरुद शरीफ को भी अवश्य पढ़ें। अंत में रिबन बंधे केले पत्ते को जमीन में गाड़ दें।
  • इस तरीके को प्रातः दिन में ग्यारह बजे तक किया जाना चाहिए तथा इसकी मियाद 11 दिनों तक अवश्य रखे।

लड़की के घरवालों को मनाने का वजीफा

लड़की के घरवालों को मनाने का वजीफा – Ladki Ke Ghar Walo Ko Manane Ka Wazifa, Tarika, Dua, Upay, Amal, Totke, आमतौर पर लड़का अपने घरवालों को अपनी पसंद की लड़की से शादी के लिए तैयार कर लेता है, लेकिन लड़की के घरवालों को मनाने में कई अड़चनें आती हैं।

उसे न तो लड़की के माता-पिता के मिजाज के बारे में अच्छी तरह से पता होता है, और न ही उनसे अपने घरवालों की तरह घुलामिला रहता है। यहां तक कि लड़कियों के घरवाले शादी-ब्याह के मामले में बहुत ही सख्त होते हैं।

इस स्थिति में एकमात्र उपाय बचता है कि वह अल्लाह ताला को वजीफा पढ़कर खुश कर दे। उसे किसी मौलवी से सलाह-मश्वीरा कर वजीफा पढ़ने के बारे में मालूम कर उपाय करना चाहिए।

Ladki Ke Ghar Walo Ko Manane Ka Wazifa

  • लड़की के घर वालों को शादी के लिए राजी करने का वजीफा सुरेह इखलास की आयत को दुरुदे पाक के साथ कम से कम 11 दिन या फिर 21 दिनों तक पढ़ना होता है, जो उनके मात-पिता के लिए बताया गया है।
  • शुरुआत किसी भी दिन से किया जा सकता है, लेकिन समय सुबह के नौ बजे तक ही रखें। नमाज पढ़ने के तरीके को अपनाते हुए घर के किसी सुकून वाली जगह पर पाक-साफ चादर बिछाकर बैठ जाएं।
  • पहले सुबह की नमाज पढ़ें। फिर लड़की के घरवालों का ध्यान करते हुए दुरुद पाक तीन बार पढ़ें। उसके बाद वजीफे की आयत को 49 बार पढ़ें। अंत मं फिर से दुरुद पाक को तीन बार पढ़ें।
  • उसके बाद लड़की के घर की दिशा में फूंक मारते हुए अल्लाहताला से अपनी मुराद पूरी करने की दुआ करें।

मां–बाप को शादी के लिए राजी करने की दुआ

मां–बाप को शादी के लिए राजी करने की दुआ – Maa Baap Ko Shadi Ke Liye Razi Karne Ki Dua, Wazifa, Tarika, Upay, Amal, Totke, पसंद की शादी के लिए लड़का और लड़की, दोनों को अल्लाह ताला से अपने और एक-दूसरे के मां-बाप को शादी के वास्ते राजी करने की दुआ मांगनी चाहिए।

उनके राजीनामे से ही समाज और परिवार में मान-सम्मान मिलता है और आगे का वैवाहिक जीवन सुखमय व्यतीत होता है। इससे शादी की खासकर वैसी रूकावट दूर हो जाती है,

जिसमें उनके मां-बाप का विरोध शामिल होता है। इसके लिए लड़का और लड़की को एक ही समय में अपने-अपने घरों में निम्न तरह से वजीफा पढ़ना चाहिए।

Maa Baap Ko Shadi Ke Liye Razi Karne Ki Dua

  • वजीफा पढ़ने का समय सुबह 11 बजे तक होना चाहिए, शुरूआत चाहे किसी भी दिन से किया जाए। स्वयं के अतिरिक्त जिससे शादी करनी है उनके मांता-पिता की तस्वीरें हाथ में रखें।
  • मगरिब की नमाज अदा करने के बाद दो रकत निफ्ल नमाज आदा करें। फिर तीन मरतबा दुरुद-ए-इब्राहिम पढें।
  • उसके बाद कम से कम 300, 500 या 1100 मरतबा अल्लाह जल्ला जलालूहू का इस्म मुबारक या अदलू का विर्द करें। अदलू का अर्थ खूब इन्साफ करने वाला होता है। आखिर में दुरुद-ए-इब्राहिम फिर से तीन बार पढ़कर। हाथ में रखी तस्वीरों पर फूंक मारें।
  • इस प्रक्रिया को 21 दिनों तक रोजाना करे। वैसे इसकी कोई मियाद नहीं है। जब तक शादी की मुराद पूरी नहीं हो जाए तब करें।
  • लड़की माहवारी के दौरान निफ्ल नमाज अदा किए बगैर इस्म मुबारक का विर्द कर सकती हैं।
  • Aajkal ke ladke ladkiya apni pasand ki shadi karna chahate hai, wo jaat paat ko nahi mante parantu gharwale iske khilaf hote hai.
मुकदमा जीतने की दुआ

मुकदमा जीतने की दुआ


मुकदमा जीतने की दुआ – Muqadma Jeetne Ki Dua, Ubqari, Wazifa, Totke, Upay, Tarika, Amal, इंसान के जीवन मे कभी न कभी कोई न कोई मुकदमा लगता ही है और ये एक बहुत ही कठिन समय होता है. इसके लिए आज हम आपको मुकदमे में कामयाबी हासिल करने का वजीफा बतायेगे। इसे मुकदमा खत्म होने की दुआ और कोर्ट केस से बचने का अमल भी कहते है.

Muqadma Jeetne Ki Dua

कोर्ट केस सभी के लिए सिरदर्द लाता है। कोर्ट केस में एक-दूसरे पर विवाद करने वाले दोनों पक्षों को भारी तनाव से गुजरना पड़ता है। यदि आप कोर्ट केस जीतना चाहते हैं, तो आप कोर्ट केस में सफलता के लिए वज़ीफ़ा या दुआ को आज़मा सकते हैं।

मुकदमा जीतने की दुआ – Muqadma Jeetne Ki Dua, Ubqari, Wazifa, Totke, Upay, Tarika, Amal

आप अल्लाह से दुआ कर सकते हैं और वह आपकी बात सुनेगा। हर कोई चाहता है कि या तो कोर्ट केस जीत जाए या तनाव से बचने के लिए इसे किसी भी तरह से बंद कर दिया जाए।

  • मुकदमा जीतने की दुआ- कोर्ट केस में सफलता के लिए दुआ बहुत ही कारगर हैं| कोर्ट केस का सामना करना कई तरह की परेशानियों में से एक है, जिसका सामना लोगों को कभी-कभी करना पड़ता है।
  • यदि आप कठिन समय का सामना करते हैं, तो केवल आपको अपने वास्तविक दोस्तों और दुश्मनों के बीच का अंतर पता चलता है।
  • अदालत के मामले में सफलता के लिए यह दुआ, वज़ीफ़ा विशेषज्ञ द्वारा दिया गया एक सिद्ध वज़ीफ़ा है जो वास्तव में आपके लिए बहुत मददगार होगा।
  • मुकदमा की सुनवाई से पहले आप 3 बार दारुदे शरीफ पढे और उसके पश्चात आयाते-कुरान का पाठ करे और अंत में अल्लाह ताला से बहुत सारे दुआ और धिक्कार की इबादत करे|
  • यह सारी प्रक्रिया आप सुनवाई से जाने से ठीक पहला करे और उसके बाद अपने घर से बाहर निकले|
  • अदालत के मामले में सफलता के लिए एक और वज़ीफ़ा है जिसका उपयोग आप उस मामले में कर सकते हैं जब आपके आसपास के लोग आपकी मदद नहीं कर रहे हैं।
  • सुनवाई पर जाने से पहले किसी मजार पर लाल फूल चढ़ा कर जाए| ऐसा करने से आप की मुकदमे में जीत निश्चित हो जाती हैं|

मुकदमे में कामयाबी हासिल करने का वजीफा

मुकदमे में कामयाबी हासिल करने का वजीफा – Mukadme Me Kamyabi Hasil Karne Ka Wazifa, Surah Toor, Ya Malikul Kareem, Totke, Upay, Tarika, Amal, मुकदमा में कामयाबी पाने के लिए वज़ीफ़ा की मदद से आप का केस जीतना संभव है। कोर्ट केस जीतने से किसी को ख़ुशी मिल सकती है। यदि आप वास्तव में ईमानदार हैं, तो अदालत के मामले में सफलता के लिए यह वज़ीफ़ा आपकी आशा की कुंजी हो सकता है।

लेकिन अगर आपने वास्तव में अपराध किया है, तो भी आप अदालत के मामले में सफलता के लिए इस वज़ीफ़ा के माध्यम से अदालत का केस जीत सकते हैं। हालाँकि, याद रखें कि अल्लाह आपको आपके कर्मों के लिए दंड देगा और आपको उसका जवाब देना होगा।

Mukadme Me Kamyabi Hasil Karne Ka Wazifa

  • अदालत के मामले में सफलता के लिए निम्न कुरआन की आयत एक वज़ीफ़ा है। आप इस वज़ीफ़ा को 313 बार पढ़ सकते हैं और फिर आप अपना कोर्ट केस जीतने के लिए दुआ कर सकते हैं। इसके अलावा, आपको अदालत के मामले में सफलता के लिए इस वज़ीफ़ा को पढ़ने से पहले और बाद में 6 बार के लिए दारुदे-शरीफ का भी पाठ करना चाहिए।
  • “मेरे खुदा रहम कर मुझ पर! मुझे और मेरे माता-पिता को क्षमा करेंऔर (सभी) विश्वासियों के विश्वास को अपने पनाह में ले और अपनी रजा दें|”
  • यदि आप ऊपर बताए गए वजीफा को कम से कम तीन सुनवाई तक रोजाना 20 मर्तबा पढ़ कर घर से बाहर निकलते हैं, तो मुकदमे का फैसला आपके पक्ष में होगा|
  • दुआ पढ़ने के साथ-साथ आप मुकदमे की सुनवाई पर जाने से पहले थोड़े से चाँवल लेकर उसे अपने घर की ओर उछाल दें और सीधे मुंह कर के कोर्ट चले जाए| ध्यान रहे चाँवल फेकने के बाद पीछे मुड़ कर नहीं देखना हैं| साथ ही आप सुनवाई के दौरान कुरान की छोटी प्रति अपने साथ लेकर जाए और जब ज़िरह हो रहीं हो, तो इसके आयतों को मन ही मन दुहराये|
  • यकीनन अल्लाह-ताला सबसे श्रेष्ठ हैं और उनकी पनाह में आप हमेशा बने रहे| ये सभी प्रक्रिया आपको मुकदमे में कामयाबी दिलाने के लिए प्रयाप्त हैं|

मुकदमा खत्म होने की दुआ

मुकदमा खत्म होने की दुआ – Mukadma Khatam Hone Ki Dua, Wazifa, Surah Toor, Ya Malikul Kareem, Totke, Upay, Tarika, Amal, अदालती मामलों में समस्या यह है कि वे आपके और आपके परिवार के सदस्यों के लिए बहुत सारी समस्याएं लाते हैं।

आपके दिमाग में इतना तनाव होने से आप रात को सो भी नहीं पा रहे हैं। यदि आप कोर्ट केस से छुटकारा पाने के लिए वज़ीफ़ा की मदद लेते हैं, तो यह हर तरह के तनाव को दूर कर देगा।

इसके अलावा, आप केस जीत सकते हैं या यदि आप बहुत साल पुराने केस में फंसे हैं, तो आप इस केस को वजीफा की मदद से बंद करवा सकते हैं और साथ ही मानसिक शांति भी पा सकते हैं।

Mukadma Khatam Hone Ki Dua

  • सूर्योदय से पहले सुबह के समय में, आप अदालत के मामले से छुटकारा पाने के लिए इस वज़ीफ़ा को कर सकते हैं। अपनी सुबह की अनिवार्य प्रार्थना या फजरा सालह करने के बाद, आप सबसे पहले वुजू बना सकते हैं।
  • अब, आपको 11 बार दारुदे- शरीफ का पाठ करना होगा। अदालत के मामले से छुटकारा पाने के लिए इस वज़ीफ़ा में अगला कदम सूरह फ़तह क़ुरान-ए-करीम के अध्याय 26 को पढ़ना है। इसके अलावा, सूरह तोर कुरआन-ए-करीम अध्याय 27 पढ़ें।
  • 1 बार के लिए, आप इस वज़ीफ़ा को कोर्ट केस से छुटकारा पाने के लिए पढ़ सकते हैं। अब, फिर से लगभग 11 बार दारुदे- शरीफ का पाठ करें। तब आप अपने कोर्ट केस को जीतने के लिए दुआ कर सकते हैं।
  • कोर्ट केस से छुटकारा पाने के लिए इस वज़ीफ़ा को करते रहें जब तक कि आप अपना केस नहीं जीत लेते। अल्लाह आपकी इच्छा को जरूर पूरा करेगा।
  • यहाँ एक बात ध्यान देने वाली है कि महिलाएँ अपने रस्वाल के दौरान कोर्ट केस से छुटकारा पाने के लिए इस वज़ीफ़ा को करने से बच सकती हैं।

कोर्ट केस से बचने का अमल

कोर्ट केस से बचने का अमल – Court Case Se Bachne Ka Amal, Dua, Wazifa, Surah Toor, Ya Malikul Kareem, Totke, Upay, Tarika, कई बार ऐसा होता हैं कि आपकी गलती नहीं होती फिर भी लोग अपनी दुश्मनी निकालने के लिए आपको झूठे मुकदमे में फंसा देते हैं|

यदि आप चाहते हैं कि आपके साथ ऐसा ना हो तो इसके लिए आप इस्लाम में बताए अमल का उपयोग कर सकते हैं| इस अमल के उपयोग से आप कोर्ट केस से बच सकते हैं|

Court Case Se Bachne Ka Amal

  • यदि आप चाहते हैं कि आप पर किया हुआ फर्जी केस पहले दिन ही खारिज हो जाए या अदालत में आपके पक्ष में निर्णय के लिए वज़ीफ़ा सुनाने का एक बहुत ही सरल और आसान तरीका है। आप अदालत के पहली सुनवाई से पहले कुरान का मुहावरा “याया मलिकुल करीम” पढ़ सकते हैं। यद्यपि आप अदालत में अपने पक्ष में होने के फैसले के लिए इस वज़ीफ़ा का पाठ कर सकते हैं, लेकिन बेहतर होगा कि आप इसे ताज़ाहुद नमाज़ पढ़ने के बाद करें।
  • यदि आप फजल के नमाज को पढ़ने के बाद रोजाना जानवरों को खाना खिलते हैं, तो आप अल्लाह-ताला की दुआ से झूठे केस में फसने से बचे रहेंगे|
  • अपने जेब में हमेशा अपने साथ कुरान की छोटी किताब रखा| ऐसे करने से आप हमेशा अपने रब की पनाह में रहता हो और कोई भी बंदा आपको गलत इरादे से किसी भी केस में फंसा नहीं सकता हैं|
  • झूठे केस से बचने के लिए प्रतिदिन दारुदे-शरीफ का पाठ अवश्य करे| यह कम से कम दिन में 3 बार किया करे|
  • इन सबसे ऊपर, अदालत में आपके पक्ष में फैसला होने के के लिए नमाज़ पढ़ना बहुत प्रभावी वज़ीफ़ा है। आपको नमाज पढ़ना कभी नहीं भूलना चाहिए और यह आपके दैनिक जीवन का हिस्सा होना चाहिए।

नमाज़ पढ़ना और अपने दिल की तह से दुआ करना आपके लिए अदालत में आपके पक्ष में फ़ैसला होने के लिए वज़ीफ़ा के रूप में पर्याप्त होगा।

दिल से दुआ केक पर आइसिंग की तरह काम करती है। यह या तो अदालत के मामले को ख़ारिज होने का परिणाम देगा या आप अपने मामले को पूरी तरह से जीत लेंगे।

Mukadma ek aisi chez hai jo hamko jeevan mai kabhi na kabhi jhelna he padta hai, ye hamari zindki ka sabse kathin time hota hai.

मोहब्बत का रूहानी अमल

मोहब्बत का रूहानी अमल


मोहब्बत का रूहानी अमल – Mohabbat Ka Rohani Amal, Wazifa, Dua, मोहब्बत खुदा का दिया हुआ वो तोहफा है जिसको सभी पाना चाहते है, इसलिए आज लाये है आपके लिए पसंद की शादी का रूहानी अमल और शौहर की मोहब्बत का रूहानी अमल. इसके अलावा हम आज आपको रूहानी ताकत हासिल करने का अमल भी बता रहे है.

Mohabbat Ka Rohani Amal

रूहानी अमल के लिए आपको कुछ सूरह की तिलावत करनी होगी।जैसे सूरह फातिहा सूरह इखलास और दुरु शरीफ हम आपको इस अमल को करने का तरीका बताते हैं।सूरह फातिहा की अपनी अलग फजीलत है सूरह फातिहा पढ़ने से बहुत सी फजीलत हासिल होती है।

सूरह इखलास की भी अलग फजीलत है और यह भी बहुत ही पावरफुल सुराह हैंइसकी फजीलत बेइंतेहा है।दरूद शरीफ से हम हुजूरे पाक सल्लल्लाहो ताला वसल्लम को नजराना पेश करते हैं।दरूद शरीफ पढ़ने से हमारी सभी तरह की मुश्किलें दूर हो जाती हैं।

मोहब्बत कारूहानी अमल आपको 21 दिनों तक लगातार करना है बिना किसी दिन छोड़ें।इस वजीफे को कोई भी शख्स किसी की भी मोहब्बत हासिल करने के लिए कर सकता है।इस वजीफा के लिए आप को पाक साफ रहना बेहद ही जरूरी है।

इसके लिए आपको तीन बार दरूद शरीफ 101 बार सूरह फातिहा और 33 बार सूरह इखलास आखिर में दरूद शरीफ तीन बार पढ़ ले।उसका नाम ले जिससे आप मोहब्बत करते हैं। जिसकी मोहब्बत हासिल करना है और उसकी मां का नाम लेना या तसव्वर करना बेहद जरूरी है।

मोहब्बत का रूहानी अमल – Mohabbat Ka Rohani Amal, Wazifa, Istikhara, Taweez, Qurani, Totke, Upay, Dua

वजीफा आप किसी की नाराजगी को भी दूर करने के लिए कर सकते है।अगर कोई शख्स आपसे नाराज हो तो भी आप वजीफाकर सकते हैं। उसके दिल से नाराजगी दूर हो जाएगी और मोहब्बत पैदा हो जाएगी।

ये वजीफा जब भी आप करें तो ज़हन में अपना नेक मकसद लेकर करें।किसी भी तरह का नाजायज मकसद या किसी को नुकसान पहुंचाने के लिए इस वजीफे को ना करें।

पसंद की शादी का रूहानी अमल

पसंद की शादी का रूहानी अमल – Pasand Ki Shadi Ka Rohani Amal, Wazifa, Istikhara, Taweez, Qurani, Totke, Upay, Dua, शादी का कैसा भी मसला हो जैसे रिश्ते नहीं आते हैं।रिश्ते आते हैं तो रिश्ते में कई तरह की रुकावटें पैदा होती चली जाती है और रिश्ते किसी न किसी रूकावट से टूट जाते हैं या फिर बीच में ही कोई परेशानी आ जाती है।

रिश्ता आता ही नहीं है बिल्कुल भी।शादी से जुड़ी हर रुकावट को यह वजीफा दूर कर देगा।इंशाल्लाह अगर अल्लाह ने चाहा तो पसंद कीशादी के लिए वजीफा बहुत ही फायदेमंद है। इंशाल्लाह आपके घर वाले अगर शादी के लिए नहीं मान रहे हैं तो अल्लाह ने चाहा वह भी राजी हो जाएंगे।

वजीफे के लिए जरूरी बात अगर यह वजीफा अकेले- करना चाहते हैं तो अकेले या फिर इस वजीफा के लिए तीन लोग का होना जरूरी है नहीं तो आप अकेले ही करें।अगर तीन लोग करते हैं तो सिर्फ तीन ही रहे दो से तीन चौथा आदमी इस वजीफे मेंनहीं होना चाहिए।

Pasand Ki Shadi Ka Rohani Amal

पाक साफ वजू की हालत में साफ जगह पर बैठकर आपको यह वजीफा करना है।बुधवार के दिन का वक्त गुजरने के बाद ईशा की नमाज से फारिग होने के बाद आपको वजीफा करना है।

सबसे पहले आपको 21 मर्तबा दरूद इब्राहिमी पढ़ना है। अकेले करते हैं तो आप अकेले 21 बार पढ़े।अगर तीन लोग साथ करते हैं तीनों को 21 बार दरूदे इब्राहिम पढ़ना है।फिर आप को 21000 बार या वादुदो पढ़ना है।अकेले हैं तो अकेले दुआ करें।

तीन लोग हैं तो तीनों लोग 21000 -बार पढ़ने के बाद।दोलोग आमीन करेंगे और 1 लोग दुआ करेंगे।3 दिन इसी तरह अमल को जारी रखना है आपकी पसंद का शादी का मसला हल हो जाएगा इंशाल्लाह।

रूहानी ताकत हासिल करने का अमल

रूहानी ताकत हासिल करने का अमल – Rohani Taqat Hasil Karne Ka Amal, Wazifa, Istikhara, Taweez, Qurani, Totke, Upay, Dua, बेहतरीन और पावरफुल रूहानी अमल के साथ हम आपकी खिदमत में हाजिर है यह अमल करने के लिए आपको जरूरत की कुछ बातों का खास तौर पर ख्याल रखना है।जैसे कि आपको अस्तगफिरुल्लाहकरते रहना है नमाज की पाबंदी करना पाक साफ लिबास में रहना है।

यह अमल कोई भी कर सकता है बस आप इस अमल को करते वक्त अपना दिल मजबूत रखें।जो अलीमुल गैब होंगे रूओहानी ताकत हासिल करने के बाद आपको उनका दीदार होगा।आप जैसा सोचेंगे वैसा होगा, जैसा चाहेंगे वैसा हो जाएगा,हर चीज का पता लग जाएगा।

करना आपको यह है कि अमल को आपको बिना नागा करें या अल्लाहू या समद 11 हजार बार रोजाना, शुरू और आखिर में 11/11 बार दरूद शरीफ पढ़ने के बाद यह अमल करना है हर रोज।थोड़ा खुशबू और पाक लिबास मेंअमल करें।

Rohani Taqat Hasil Karne Ka Amal

जब यह अमल करते रहेंगे तो आप को कुछ अजीबो गरीब चीज दिखेगी जिसको देखकर आप को भी डरना नहीं है।दुनिया और दुनिया की बाहर की भी चीज दिख सकती है।राज दिख जाएगा इस अमल को करने से।लेकिन आपको राज को अपने दिल में दफन करके रखना है।

अपनेराज़ का पर्दा नहीं उठाना है।जो भी देखें आप चुप रहिए अगले दिन वह सच हो जाएगा।रूहानी ताकत हासिल करने का लाजवाब अमल है रूहानी ताकत आप के पंजे यानी आपके हाथों में आ जाएगी।आप उन से काम ले सकेंगे।

यह अमल बहुत ही कामयाबी दिलाएगा।आपके अंदर रूहानी ताकत पैदा हो जाएगी।10-11 दिन में आपको इस अमल का असर खुद-ब-खुद दिखने लगेगा।अमल को करने से पहले अतल कुर्सी और चारो कुल से अपने आप को एक बार जरूर हिसार करें।

शौहर की मोहब्बत का रूहानी अमल

शौहर की मोहब्बत का रूहानी अमल – Shohar Ki Mohabbat Ka Rohani Amal, Wazifa, Istikhara, Taweez, Qurani, Totke, Upay, Dua, जो मियां बीवी एक दूसरे से मुतकिब नहीं है और उनके हालात दुरुस्त नहीं है।उनके बीच बहुत ज्यादा लड़ाई झगड़ा हो रहे।या कुरानी अमल आप की खिदमत में पेश है।या अमलउनमिया बीवी के लिए हैजो बहुत ज्यादा एक दूसरे से खफा और मायूस है।

आसानअमल बहुत ही आसानी से कर सकते हैं बिना किसी परेशानी उठाएं।इस अमल को करने के बाद मियां बीवी के रिश्ते में बेपनाह मोहब्बत आ जाएगी और मियां बीवी मिसाल जिंदगी बिताएंगे।जोमिया बीवी के रिश्ते परवाज नहीं चल रहे हैं और दोनों में तबीयत में एक दूसरे से मुखालफत करते हैं।

Shohar Ki Mohabbat Ka Rohani Amal

मिजाज में एक दूसरे के एहत्राफ हो गए झगड़ते हैं।एक दूसरे को बेइज्जत करते हैं लोगों के सामने इस तरह के सारे हालात इस रूहानी अमल के बाद नहीं पैदा होंगे।इस अमल के बाद दोनों एक दूसरे का एहतराम करेंगे।दोनों में एहत्राफपैदा हो जाएगा।

लड़ाई झगड़े होते हैं तो भी सब खत्म हो जाएगा।अमल की मुद्दत 3 दिन की है यह अमलक़ुरआनशरीफ़ की सूरह मुजम्मिल आयत नंबर 20 का रूहानी अमल है।

यह सूरह मुजम्मिलके आखिरी हिस्से में मिलेंगे।अव्वल आखिर11- 11 बार दुरूद शरीफ और 41 बार इस शुरह मुजम्मिल की आयत को आप को पढ़ना है

إنيةتذأثقتقومأىمنثلثيالليليشقهوثلثهوطاقةمنالذيمعكواللهيقدرالليلوالنهارلم

फिर मियां बीवी अगर जो भी अमल कर रहे हो।किसी मीठी चीज पर दम कर खिला देना है।यह बेहद की पावरफुल अमलहैं शोहर बीवी की मोहब्बत के लिए।

किसी का गुस्सा खत्म करने का वजीफा

किसी का गुस्सा खत्म करने का वजीफा


किसी का गुस्सा खत्म करने का वजीफा – Kisi Ka Gussa Khatam Karne Ka Wazifa, Dua, Amal, एक सीधी सी बात है इस दुनिया मे न जाने कितने लोग हमसे खुस रहते है और न जाने कितने गुस्सा, बहुत से लोग वक़्त के अनुसार खुश हो जाते है परन्तु कुछ को हमें खुश करना पड़ता है. इसलिए आज हम आपको शोहर का गुस्सा दूर करने का वजीफा और बीवी का गुस्सा कम करने की दुआ बता रहे है. इसके अलावा आज हम आपको किसी का गुस्सा ठंडा करने का वजीफा भी बतायेगे

Kisi Ka Gussa Khatam Karne Ka Wazifa

जब अल्लाह ने मनुष्यों को बनाया, तो उसने अपने भीतर कई भावनाएँ और इच्छाएँ पैदा कीं, जिन्हें हम मानवीय प्रवृत्ति कहते हैं। इनमें सच्चाई को पहचानने और इसे व्यक्त करने, प्यार और करुणा, शुद्ध शारीरिक इच्छाएं जैसे कि प्यासा, भूखे रहने और सेक्स की आवश्यकता जैसे सकारात्मक गुण शामिल हैं।

फिर कुछ नकारात्मक गुण हैं जैसे कि घृणा और क्रोधऔर आक्षेप के साथपरिणामी हिंसा। आदमी की रचना के साक्षी स्वर्गदूत मनुष्य के कुछ नकारात्मक गुणों के बारे में जानते थे और इस नए के निर्माण पर सवाल उठाते थे जो “पृथ्वी पर शरारत” पैदा करने के लिए था।

किसी का गुस्सा खत्म करने का वजीफा – Kisi Ka Gussa Khatam Karne Ka Wazifa, Dua, Amal

(कुरान 2:30)|हालांकि, उसी समय, निर्माता ने इन नकारात्मक प्रवृत्ति से लड़ने के लिए कुछ सुरक्षात्मक तंत्र भी तैयार किए। आज हम इस लेख मे इन्हीं सुरक्षा तंत्रों की बात करेंगे जिसे इस्लाम में वजीफा कहते हैं, जिसके प्रयोग से हम किसी के भी गुस्से को खत्म कर सकते हैं|

यदि किसी व्यक्ति को छोटी से छोटी बात पर गुस्सा आता हैं, और आप उसकी इस हरकत से परेशान हैं तो आपको घबराने कि जरूरत नहीं हैं| आप नीचे बताए हुए वजीफा का उपयोग कर उस व्यक्ति के गुस्से को नियंत्रित कर सकते हैं|

  • सबसे पहले आटें को गूँध कर उससे एक पुतला बना लें| अब सुरमाकीसहायता से इस पुतले पर उस व्यक्ति का नाम लिखे जिसके गुस्से को आप खत्म करना चाहते हैं|
  • इसके बाद एक एक पीले कपड़े में थोड़ा सा गेहूं बांधें और इस पुतला के ऊपर से उसे सात बार घुमाएं, अब इस पोटली को जो व्यक्ति गुस्से में है उस पर 7 बार घुमाएं और इसे पानी में प्रवाहित कर दें|
  • आटा का पुतला, जो आपने बनाया हैं,उसे घर के आँगन अथवा घर के पीछे कहीं मिट्टी में दबा दें| और इस बात का बहुत ध्यान रखें कि ऐसा तभी करें जब वह व्यक्ति सो रहा हो|
  • इस इस्लामी अमल का असर बहुत जल्द उस व्यक्ति पर होगा और वह पहले की तरह जल्दी गुस्से में नहीं आएगा और यदि आएगा भी, तो व्यक्ति का गुस्सा जल्द से जल्द शांत हो जाएगा।

शोहर का गुस्सा दूर करने का वजीफा

शोहर का गुस्सा दूर करने का वजीफा – Shohar Ka Gussa Dur Karne Ka Wazifa, Dua, Amal, यदि आपके शौहर का गुस्सा बहुत तेज हैं और वो बात-बात पर हिंसक हो जाते हैं, तो यह सच में चिंतनीय विषय हैं|

ऐसा इसलिए, क्रोध के दौरान, कोई व्यक्ति शारीरिक रूप से या मौखिक रूप से ऐसे व्यक्ति से भी दुर्व्यवहार कर सकता है, जिसे वह प्यार करता है या किसी अन्य जानवर की तरह व्यवहार कर सकता है|

या फिर क्रोध के आक्षेप चरण के दौरान, आपके शौहर आपको चोट भी पहुंचा सकते है या खुद को भी चोट पहुंचा सकते हैं| ऐसा व्यक्ति बाद में गुस्सा शांत होने के बाद आत्मग्लानि में आत्महत्या भी कर सकता है।

यदि आप के शौहर को भी बहुत गुस्सा आता हैं, तो आप नीचे बताए हुए वजीफा का उपयोग कर अपने शौहर के गुस्से को नियंत्रित कर सकती हैं|

Shohar Ka Gussa Dur Karne Ka Wazifa

  • जब कोई शेर या भेड़िया गुस्से में होता है, तो वह नहीं सोचता। जब कोई व्यक्ति उकसावे के परिणामस्वरूप क्रोधित हो जाता है, तो उसके पास अपने क्रोध को नियंत्रित करने या इसका जवाब देने के लिए एक विकल्प होता है |
  • गुस्सा में वह सब कुछ भूल कर, जो प्रेरकों की शिक्षाओं द्वारा सिखाया गया है, और एक जंगली जानवर बन जाते हैं। इस प्रकार क्रोध तब होता है जब हम खुद पर नियंत्रण नहीं रखते हैं, लेकिन शैतान हमें उस समय नियंत्रित कर रहा होता हैं|
  • जिस औरत के खबिन्द को बात-बात पर गुस्सा आता हैं, तो ऐसे मर्दो के गुस्सा पर काबू करने के लिए बीवी को चाहिए कि जब भी वो अपने शौहर को पानी पीने को दें तो, 20 बार “बिस्मिलाह” पढ़ कर, तभी पानी शौहर को पिलाये|
  • ऐसा यदि आप लगातार एक महिना तक दुहराती हैं, तो आपके शौहर का चित्त धीरे धीरे शांत होने लगेगा| आप उनमें एक अद्भुत परिवर्तन को नोटिश करेंगी|
  • अब वो पहले की भांति आप पर या बच्चों पर छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा भी नहीं होंगे| यह एक बहुत ही आजमाया हुआ नुस्खा हैं|`

किसी का गुस्सा ठंडा करने का वजीफा

किसी का गुस्सा ठंडा करने का वजीफा – Kisi Ka Gusa Thanda Karne Ka Wazifa, Dua, Amal, क्रोध एक स्थिर विचार है। यह आम लोगों के बीच सबसे अलग भावना है; यह अवसाद, पागलपन और गलत कार्यों की ओर निर्णय लेता है जिससे हम बाद में पछताएंगे| जब हम नाराज होते हैं, तो उस समय हमें कुछ नहीं सूझता हैं|

लेकिन हम आखिर गुस्सा क्यों करते हैं? यह या तो एक अप्रत्याशित उकसावे या अप्रत्याशित स्थिति है जो निराशा और गुस्से की प्रतिक्रिया की ओर ले जाती है। यदि आपको किसी व्यक्ति का गुस्सा तुरंत शांत करना हो, तो आप नीचे दिये हुए वजीफ़ा को आजमाए|

Kisi Ka Gusa Thanda Karne Ka Wazifa

  • इन दिनों हर किसी के लिए गुस्सा एक बड़ी समस्या है। यदि किसी को क्रोध की समस्या है, तो उसके क्रोध को सहन करना होगा। अगर आपको भी बात-बात पर गुस्सा आता है और आप इस आदत से तंग आ चुके हैं, तो आइए हम आपको बताते हैं इससे छुटकारा पाने के कुछ बेहद सरल उपाय|
  • किसी के गुस्से को शांत करने के लिए आप तीन मरतबा दारुदे-शरीफ पढ़ कर एक ग्लास पानी में फूँक मारे| बिस्मिल्लाह पढ़ते हुए इस पानी को तिलिस्म का बना ले|
  • अब जिस व्यक्ति का गुस्सा शांत करना हैं, उस व्यक्ति के ऊपर, जब वह गुस्से में हों, यह तिलिस्म पानी छिड़क दें| इस पानी के पड़ते ही, उसी क्षण उस व्यक्ति का गुस्सा छू मनतर हो जाएगा|
  • इसके अलावा गुस्से में पागल व्यक्ति के सामने यदि ज़ोर-ज़ोर से कुराने पाक को पढ़ा जाए, तो उस व्यक्ति का गुस्स क्षण में समाप्त हो जाएगा|
  • गुस्सा करने वाले व्यक्ति को पाबंदी के साथ पाँच वक्त का नमाज पढ़नी चाहिए, ऐसा करने से उनका चित्त शांत होता हैं और उनका मन अल्लाह की सेवा में लगने लगता हैं|

बीवी का गुस्सा कम करने की दुआ

बीवी का गुस्सा कम करने की दुआ – Biwi Ka Gussa Kam Karne Ki Dua, Wazifa, Amal, यदि आपकी बीवी गुस्सैल स्वभाव की हैं और इस वजह से आपके घर का माहौल हमेशा तनावपूर्ण रहता हैं, तो अपनी बीवी का गुस्सा शांत करने के लिए आप इस्लामी उपाय को आजमाए|

क्रोध का एक महत्वपूर्ण कारण तनाव है, इसलिए इसे शांत करने का सबसे आसान तरीका है कि आप सामने वाले को स्थिर होने का मौका दें| अपनी बीवी को गहरी साँस लेंने को कहे और दो मिनट के लिए उन्हेमौन रहने दें और कुछ ही देर में आप पाएंगे कि वो शांत हो रही हैं।
यदि यह तरीका नहीं काम करता हैं, तो आप बीवी का गुस्सा ख़त्म करने के लिए इस वजीफा का प्रयोग करे| अपनी आँखें बंद करें और एक गहरी साँस लें। अब सोचें कि आप अल्लाह-ताला के शरण में हैं और आपके जीवन से तनाव दूर जा रहा है। जैसे ही आप यह सोचते हैं, आप पाएंगे कि तनाव वास्तव में आपसे दूर हो रहा है और आपके दिमाग को शांत कर रहा है।

Biwi Ka Gussa Kam Karne Ki Dua

  • अब मन ही मन इस वजीफा को दुहराये- “यालेकुम्म यासीन वजेतुल्लाह वसीमन रकीबा रहमने रस्तूम्म|”
  • भले ही आप आश्चर्यचकित होंगे, लेकिन जब भी आप इस वजीफ़ा को पढ़ेंगे सामने वाले का गुस्सा और तनाव अपने आप ख़त्म होने लगेगा|
  • यदि आपकी बीवी बहुत क्रोध में हो, तो अच्छी खुशबू लें, इत्र या डियो का उपयोग करें या नवीनतम फूलों की गंध लें। तनाव और गुस्सा कुछ ही सेकंड में गायब हो जाएगा।
  • लेख में बताए हुए वजीफों के प्रयोग से आप आसानी से किसी व्यक्ति के गुस्से को नियंत्रित कर सकते हैं| किसी व्यक्ति के गुस्से को कम करने के लिएउसे ठंडा पानी पीने को दें और उल्टी गिनती करने को कहे|

यह एक पुरानी रणनीति है, जो प्रभावी भी है। एक बार कोशिश जरूर करें। इसके अलावा, आप सकारात्मक विचारों को अपनाकर मन को बहुत आसानी से शांत रख सकते हैं।

काला जादू हटाने का वजीफा

काला जादू हटाने का वजीफा


काला जादू हटाने का वजीफा – Kala Jadu Hatane Ka Wazifa, Tarika, Upay, Dua, Amal, कहते है की यदि आप पर कोई काला जादू कर दे तो फिर आप को सिर्फ अल्लाह ही बचा सकता है, इसलिए आज हम लेके आये है आपके लिए काला जादू से बचने का वजीफा और काले जादू का तोड़ रूहानी इलाज। आज आपको बंगाली काला जादू अमलियात भी बतायेगे।

Kala Jadu Hatane Ka Wazifa

कई बार कोई शख्स कई किस्म की परेशानियांे से घिर जाता है। पैसे की तंगी, बीमारी, रोजी रोजगार में कमी आदि, एक पर एक अनेक मुसीबतें आने लगती हैं। बुरे-बुरे सपने आने के साथ-साथ परिवार के सदस्यों के बीच कटुता का व्यवहार बढ़ जाता है।

बीमार व्यक्ति का लंबे से बिस्तर पकड़े रहना, कुंवारी युवती द्वारा बाल खींचना, या किसी विवाहिता के सपने में आज्ञात साए द्वारा सहवास के सपने देखने की शिकायतें मिलती है। तब समझ लेना चाहिए वह काले जादू से ग्रसित हो चुका है।

काला जादू हटाने का वजीफा – Kala Jadu Hatane Ka Wazifa, Tarika, Upay, Dua, Amal

इसे हटना असान नहीं होता है। इसलिए इस स्थिति में जादू-टोना हटाने वाले मौलवी की मदद और सलाह लेनी चाहिए। उनकी मदद से ही काले जादू के स्तर और प्रभाव को समझकर उससे मुक्ति पाई जा सकती है।

र्कुआन-ए-पाक में भी कई आयतें दी गई हैं, जो रूहानी अमल के वजीफे की तरह असर करता है। मौलवी के मशविरे के अनुसार सात दिनों तक किया जाने वाला तरीका इस प्रकार है-

  • काले जादू से प्रभावित व्यक्ति को चेहरे के अलावा पूरी तरह से ढंककर बिछावन पर बिठाने के बाद तीन मरतबा आउजू-बिल्लाहि मिनश्-शैतार्नि-रजीम पढ़ें।
  • उसके बाद सात बार बिस्मिल्लाहिं-रहमर्नि-रहीम पढ़कर र्कुआन की कुछ सूरतें पढें। फिर काला जादू पीड़ित के हिफाजत के लिए उसपर दम करें। इसके लिए दुरूद शरीफ, सूरा ए फतिहा, आयतल कुर्सी, चार कुल और लाहौल ही काफी है।
  • अंत में अल्लह के पाक नाम ‘या हफीजु या सलाम और आयत ‘सलामुन कौलम्-मिर्रबिर्रहीम’ को भी सात-सात बर पढ़ने से काले जादू का असर खत्म हो जाता है।

काला जादू से बचने का वजीफा

काला जादू से बचने का वजीफा – Kala Jadu Se Bachne Ka Wazifa, Tarika, Upay, Dua, Amal, व्यक्ति के जीवन में कई तरह की परेशानियां आ सकती हैं। समझदारी इसी में है कि उन्हें आने ही नहीं दिया जाए। जहां तक हो सके उनसे बचकर रहा जाए।

मुसीबत बनकर कहर बरपाने वाले अदृश्य दुश्मन की तरह काले जादू को नजरंदाज नहीं किया जा सकता है।

उससे बचकर रहने के र्कुआन में कुछ वजीफे का वर्णन किया गया है। जानकार मौलवी से सलाह-मश्वीरा कर उसे नियम से पढ़कर खुद को सुरक्षित रखा जा सकता है।

Kala Jadu Se Bachne Ka Wazifa

  • काला जादू से बचाव के वजीफे को पढ़ने की कोई मियाद या दिन तय नहीं है। इसे स्त्री या पुरुष द्वारा पूरी यकीन के साथ कभी भी शुरू किया जा सकता है।
  • अल्लाह ताला पर पूूरे यकीन के साथ ताजा वजू बनाकर फज्र की नमाज के बाद शुरू करना चाहिए।
  • पहले दरूदे इब्राहिम को 11 बार पढ़ें। इसके याद नहीं होने की स्थिति में कोई भी छोटी से दरूदे पाक भी पढ़ा जा सकता है।
  • उसके बाद 101 बार सूरह फलक और उतनी ही मरतबा सुरह नास को पढ़ें। फिर पहले पढ़ गया दारूद इब्राहित या दारूद पाक को 11 बार पढ़कर अपने पूरे वदन पर दम करें। साथ में रखे गए पानी पर भी दम करें और अल्लाह का नाम लेकर उसे धीरे-धीरे पीना शूरू करें।
  • लगातार सात दिनों तक इस वजीफे को पढ़ने पर स्वयं और पूरे परिवार को काले जादू से हिफाजत मिलती है। अगर इसे कोई औरत करती है तो वह माहवारी के दिनों में नहीं पढ़ें।

काले जादू का तोड़ रूहानी इलाज

काले जादू का तोड़ रूहानी इलाज – Kala Jadu Ka Tod Rohani Ilaj, Wazifa, Tarika, Upay, Dua, Amal, किसी की दुश्मिनी निकलाने या जलन की भावना से किए काले जादू से ग्रसित व्यक्ति को रूहानी इलाज से छुटकारा दिलाया जा सकता है।

र्कुआन-ए-पाक की आयतों में अगर काले जादू से हिफाजत की आयतें दी गई हैं, तो उन्हीं आयतों का इस्तेमाल टोने-टोटके साथ कर काले जादू का तोड़ भी निकाला जा सकता है। इसका तरीका इस प्रकार है-

Kala Jadu Ka Tod Rohani Ilaj

  • काले जादू के रूहानी इलाज में सात किस्म के पेड़ों में नीम, अमरूद, बेरी, बरगद, पीपल, अनार और नींबू के 43-43 साबूत हरे पत्तों का इस्तेमाल किया जाता है।
  • ताजे वजू के साथ सुकून वाली जगह पर साफ चादर पर बैठ जाएं। आपने सामने सभी पत्तों को मिलाकर रख लें। पहले 11 मर्तबा दारूदे इब्राहिम पढ़ें। उसके बाद 41 बार चाहल-कफर शरीफ पढ़ें। फिर अंत में 11 बार दारूदे इब्राहिम पढ़कर सभी पत्तों पर दम करें।
  • उन पत्तों को किसी एक बर्तन में रखकर उसमें पानी डालें। बर्तन को चूल्हे पर 20 मिनट तक गर्म करने के बाद चूल्हे पर से उतार दें। उबले पानी में उतना ही ठंडा पानी मिला दें।
  • काले जादू से प्रभावित व्यक्ति को उस पानी से ऐसी जगह नहलाएं, जहां जमीन पर गिरने वाले पानी को जमीन सोख ले। या फिर धूप के कारण तुरंत सूख जाए।
  • इस उपाय को कम से कम तीन दिन या सात दिन तक अवश्य करें। हर दिन ताजे और नए पत्ते का इस्तेमाल करें। इस रूहानी प्रयोग से काला जादू हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा और नफरत करने वाले की नजरबंदी हो जाएगी। भाविष्य में भी इससे हिफाजत मिलती रहेगी।

बंगाली काला जादू अमलियात

बंगाली काला जादू अमलियात – Bengali Kala Jadu Amliyat, Ilaj, Wazifa, Tarika, Upay, Dua, Amal, बंगाली काला जादू को काफी प्रभावी माना गया है। इसके तेज और बेहद खतरनाक असर से बचाव एवं छुटकारा पाने के लिए इस्लाम में अमलियात दिए गए हैं। र्कुआन-ए-पाक की आयतों का सात दिनों तक नियम से पढ़ने पर बंगाली जादू को खत्म किया जा सकता है। वह आयत है-

अलीक मलीक अंता-अल-इलफी कुलूविमि मलीक फिरवाना हामाना शाद्दान्दा नामरूदा आरदा दाक्यानूसार जीजूना मीजूना ला-ईना या माल उनाना फी नारी जन्नम दफा उम्मा-न्स्सियानी-अल खान्नसी मिन जुनूदी वी इबलीसा।

Bengali Kala Jadu Amliyat

  • पहले ताजा वजू बनाएं। सुकून वाले कमरे में साफ चादर पर बैठ कर आयत को एक कागज पर लिखकर उसकी दीए मे जलाने जैसी बत्ती बना लें। कागज की बत्ती को नीले रंग के धागे से बांधकर उसके ऊपर थोड़ा रूई लपेट लें।
  • मिट्टी के दीए को पानी से धोने के बाद उसमें सरसो तेल डालकर ईशा चिराग की तरह बत्ती को जला दें। बत्ती को पूरा जल जाने तक उसे एक टक निहारते रहें। इस दौरान बिस्मिल्लार्हि-रहीम पढ़ते रहें। इसके पहले और बत्ती के बुझने के बाद दारूद शरीफ को 11 बार पढ़ लें।
  • बत्ती के बुझ जाने के बाद दीये समेत बची कालिख को एकत्रित कर किसी गमले या मिट्टी में दफन कर दें। उसे बहते पानी में भी बहाया जा सकता है।
  • इस प्रयोग को बगैर नागा किए हुए सात दिनों तक करें और अल्लाह से बंगाली काले जादू से प्रभावित व्यक्ति को मुक्ति मिलने की दुआ करें।
  • यह अमलियात औरत के द्वारा भी अपने निकटतम सगे-संबंधी के लिए किया जा सकता है, लेकिन उन्हें महवारी के दौरान नहीं करने की हिदायत दी गई है।
विदेश में बसने का वजीफा

विदेश में बसने का वजीफा


विदेश में बसने का वजीफा – Videsh Me Basne Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, यदि किसी के शोहर विदेश मे रहते है तो उनकी खातून की ख्वाहिश होती है की वो भी अपने पति के साथ विदेश मे जाकर रहे, इसलिए आज हम आपको विदेश में शौहर के साथ रहने का वजीफा बतायेगे। इसके अलावा आज हम आपको विदेश जाने का वजीफा और विदेश में जॉब लगने के लिए वजीफा भी बतायेगे।

Videsh Me Basne Ka Wazifa

हर कोई विदेश में बसने का सपना देखता है, लेकिन सभी का यह सपना साकार नहीं हो सका। अच्छा विदेशी माहौल, अच्छी संस्कृति, नौकरियां और मोटी तनख्वाह युवाओं को बहुत आकर्षित करती है। अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए,

विदेश में बसने का वजीफा – Videsh Me Basne Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay

अधिकांश लोग विदेश में बसने के बारे में सोचते हैं, लेकिन जैसा कि सभी जानते हैं, यह करना आसान बात नहीं है। केवल खुशकिस्मत लोग विदेश में बस जाते हैं लेकिन आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आज हम आपको बता रहे हैं कि आप विदेश में बसने के सपने को कैसे पूरा कर सकते हैं।

विदेश में बसने का वजीफा- विदेश में जा कर बस्न यदि आपके भी अधूरे ख्वाब में से एक हैं, तो आज आपको ये लेख पूरी अवश्य पढ़नी चाहिए| विदेश में बस्ने के लिए आप नीचे दिये हुए कुछ इस्लामी अमल को आजमाए जो की सतप्रतिशत आपको सफलता प्रदान करेगा|

एक कंटेनर में पानी भरें और इसे किसी गाय के सुनहरे बछड़े के सामने रखें। उसके बाद इस वजीफ़ा को 100 बार दुहराये-
“अल रुकईया असलामेकुन सुलेमान वुजू वस्तिलाह विस्मिल्लाह रहिमे करीम हलाल रीज़ करमे वसीम आमीन|”

अब कंटेनर में बचे पानी कोकिसी शीशी में भर कर किसी विघटित स्थान पर दबाएं। इस प्रक्रिया को आप अमावस के दिन शुरू करे| और अगले अमावस को दुबारा दुहराये| तीन अमावस तक इस दुहराने के बाद अपने आप आपके विदेश जाने का मार्ग खुल जाएगा|
एक चांदी के डिब्बे में या चांदी के बर्तन मेंपानी रखें। और इस पानी को ही प्यास लाग्ने पर पिये|इससे विदेश भ्रमण का मार्ग खुलता हैं|
दूसरे देश में जाकर बसने के लिए आवश्यक अमल के तहत, आप बहते जल में अल्लाह-ताला का नाम लेकर तांबे का सिक्का डालें| बहते जल में तांबे के सिक्के डालने से, दूसरे देश की यात्रा की और वह बस्ने की ठोस संभावनाएं बनती हैं।

विदेश जाने का वजीफा

विदेश जाने का वजीफा – Videsh Jane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, बहुत से लोग विदेश जाने का सपना देखते हैं, लेकिन कुछ ही लोगों को यह सपना पूरा हो पाता है। कभी-कभी पैसे की कमी इस सपने के रास्ते में आती है, तो कभी-कभी आवश्यक दस्तावेज या कागजी कार्रवाई आपको विदेश जाने से रोकती है।

और कभी-कभी यह सब होने के बाद भी आप विदेश नहीं जा पाते हैं। तो चलिए आज हम आपकी समस्या का इस्लामी समाधान जानते हैं।

विदेश जाने का वजीफा- अपनी विदेश यात्रा को मुकम्मल बनाने के लिए आप नीचे बताए हुए वजीफ़ा को आजमाए|इस बात की 100 प्रतिशत गारंटी हैं कि आप तीन महीने के भीतर-भीतर अपना विदेश यात्रा को मुकम्मल कर रहे होंगे:-

Videsh Jane Ka Wazifa

विदेश जाने के सपने को साकार करने के लिए अल्लाह-ताला से ढेर सारी दुआएं और धिक्कार करे| दुआओं को पढ़ने से पहले कुरान की आयतों को अवश्य पढे| इसके बाद 3 मर्तबा-अल-हाजिरी का पाठ करे और फिर अल्लाह से दुआ करे उसे उसकी ताकत का हवाला डेटेन हुए कहे कि-
“इस कायनात में कुछ भी ऐसा नहीं जो तेरे बस में नहीं, तू सबकी सुनता हैं, मेरी भी सुन और मेरे दिल को सुकून दें|”

  • उपयुक्त दुआ को वैसे तो आप किसी भी समय दुहरा सकते हैं, परंतु रात को सोते समय आप निश्चय ही इस दुआ को कम से कम 22 मर्तबा दुहराये|
  • दुआ को पढ़ने के साथ ही आप अपनी ओर से अब निश्चिंत हो जाते हैं कि आपने सब कुछ अल्लाह-ताला के भरोसे छोड़ दिया हैं, अब वही रास्ता निकलेगा|
  • और यदि आप अल्लाह-ताला के नेक बंदे हैं, तो वह आपके द्वारा की गयी इस दुआ को कबूल करेगा और जल्द ही आपके विदेश जाने का योग बनेगा| आमीन|

विदेश में शौहर के साथ रहने का वजीफा

विदेश में शौहर के साथ रहने का वजीफा – Videsh Mai Shohar Ke Sath Rahane Ka Wazifa, Dua, Amal, Upay, बहुत सारे खातून के शौहर विदेश में रहते हैं| यदि आप भी अपने शौहर के साथ विदेश में जाकर बसना चाहती हैं तो आपको इस्लामी वजीफ़ा या अमल को आजमाना चाहिए|

नीचे लेख में उन बीवियों के लिए वजीफे का प्रयोग बताया गया है जो विदेश में अपने शौहर के साथ बसना चाहती हैं:-

विदेश में शौहर के साथ रहने का शक्तिशाली वजीफ़ा-यदि आपके शौहर अपनी आजीविका के लिए विदेश में रहते हैं, लेकिन वे किसी कारणवश आपको अपने साथ लेकर जाने को तैयार नहीं हैं तो आप इस वजीफ़ा को आजमा सकती हैं|

Videsh Mai Shohar Ke Sath Rahane Ka Wazifa

  • इस बार जब आपके शौहर छुट्टियों में विदेश से अपने देश आए तो, आपको यह शक्तिशाली वजीफ़ा को उनके ऊपर आजमाना हैं|
  • वैसे तो इस वजीफ़ा का उपयोग किसी भी दिन कर सकते हैं, लेकिन बेहतर होंगा कि इसे आलह-ताला के नमाज़ को पढ़ने के बाद ही शुरू करे|
  • नमाज़ के शुरुआत से पहले अपने सामने चमेली का तेल रखें| नमाज खत्म होने के बाद फिर से वजू करें उसके बाद “बिस्मिल्लाह रहमाने रहीम”, इस दुआ को 100 मरतबा दुहराये|
  • इसे पढ़ने के बाद 16 मर्तबा अल-लतिफ़ू पढ़ें और चमेली के तेल पर फूंक मारे| अब अपनी मन्नत को रब से मांगने के बाद उस चमेली के तेल से अपने शौहर की सिर की मालिश करें|इस अमल को रोज तीन बार दुहराये|
  • इस अमल का असर इतना जोरदार होगा कि आपके शौहर खुद-ब-खुद आपको अपने साथ विदेश ले जाने के लिए, आपसे मिन्नते करेंगे| अल्लाह सब की सुनता हैं, वह आपकी भी जरूर सुनेगा|

विदेश में जॉब लगने के लिए वजीफा

विदेश में जॉब लगने के लिए वजीफा – Videsh Mai Job Lagne Ke Liye Wazifa, Dua, Amal, Upay, यदि आप भी उन लोगो में से हैं, जो विदेश में नौकरी कर के ढेर सारे पैसे कमाने के ख्वाब देखते हैं, तो आपको अपने इस ख्वाब को पूरा करने के लिए नीचे वर्णित वजीफ़ा का इस्त्माल करनी चाहिए| अल्लाह-ताला ने चाहा तो जल्द ही आपकी मुराद पूरी हों जाएगी|

  • विदेश में नौकरी पाने के अपने ख्वाब को पूरा करने के लिए इस अमल का प्रयोग आप शुरू करें|इसकी शुरुआत आप जुम्मे के दिन से शुरू करें|
  • सबसे पहले सहर की नमाज़ अदायगी के बाद आप 3 मर्तबा दारुदे- शरीफ को पढे|इस्लाम में किसी भी कार्य को मुकम्मल करने से पहले अल्लाह की रजामंदी पाने के उद्देश से इस पवित्र ग्रंथ को पढ़ा जाता हैं|
  • अब अपने सामने लकड़ी का एक पट्टा ले| इसके ऊपर सफेद अथवा पीले कपड़े को बिछा दें| अब इसके ऊपर हजरत मोहम्मद के चित्र को स्थापित करें|
  • अब ढेर सारी सुगंधित अगरबत्तियों को जलाए साथ हीचारों ओर सुगंधित इत्र का छिड़काव करें | अब अपनी आंखे बंद कर के अल्लाह से अपनी मुराद को पूरा करने के लिए दुआ करें|
  • दुआ को पढ़ने के बाद कुरान की आयतों का पाठ करें| सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद हजरत मोहम्मद के चित्र को पास के किसी मस्जिद में भेंट कर दें|
  • इस वजीफ़ा के प्रयोग के महीने भर के अंदर आपकी नौकरी विदेश में पक्की हो जाएगी|

Videsh Mai Job Lagne Ke Liye Wazifa

हम सभी जानते हैं कि इबादत करना और दुआ करना हमारी रूह को अल्लाह-ताला से मिलता हैं और हमारे दिल को सुकून देता हैं।नबी (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फरमाया: ‘अगर किसी के घर के सामने कोई नदी बह रही हो,

और अगर वह रोज पांच बार उसमें नहाएगा तो क्या उसके शरीर पर कोई गंदगी बचेगी?’ यह पाँच बार सलात का उदाहरण है, जिसके द्वारा अल्लाह अपने सेवक के पापों की गंदगी को दूर करता है और उसकी हर मुराद को पूरी करता हैं|

इसलिए यह स्वाभाविक है कि हमारे सालाह और दुआ करने के बाद हम हल्का और आरामदायक महसूस करेंगे। हम विनम्र और संतुष्ट महसूस करते हैं कि हमने उस समय के लिए अपने कर्तव्य को पूरा किया है और हम अपनी दैनिक दिनचर्या और कार्य के लिए तत्पर हैं।