मनपसंद की शादी का कुरानी अमल और वज़ीफ़ा

मनपसंद की शादी का कुरानी अमल और वज़ीफ़ा


Manpasand shadi karna har ek insaan ki khyaish hoti hai aur chahta hai ki vah jise pyaar karta hai aur pasnd karta hai use hi apna humsafar ke roop me chune. Lekin jab use lagne lagta hai ki vah jise pasand karta aur pyaar karta hai vah uske sath shadi ke liye taiyar nhi ho rhe hai ya unke ghar wale shadi ke khilaf hone lagte hai. to ve log manpasnd ki shadi ka queani amal aur wazifa ka istmaal ke liye kisi molvi baba ji ke pass jana chahte hai.

Manpasand ki shadi ka qurani amal aur wazifa
मनपसंद की शादी का क़ुरानी अमल और वज़ीफ़ा:- मनपसंद शादी करना हर एक इंसान की ख्याइश होती है और चाहता है कि वह जिसे प्यार करता है और पसंद करता है उसे ही अपना हमसफ़र के रूप में चुने| लेकिन जब उसे लगने लगता है कि वह जिसे पसन्द करता और प्यार करता है वह उसके साथ शादी के लिए तैयार नहीं हो रहे है या उनके घर वाले शादी के खिलाफ होने लगते है| तो वे लोग मनपसन्द की शादी का क्वीनी अमल और वज़ीफ़ा का इस्तमाल के लिए किसी मौलवी बाबा जी के पास जाना चाहते है|

Manpasand ki shadi ka qurani amal aur mantra
Manpasnd ki shadi ke liye jab koi ladka ya ladki apne maa baap se baat karte hai to ve log naraaj hone lagte hai aur apni rajamandi nhi dete hai. kyoki aaj bhi bahut se log poorane khyaalo ke hote hai jo ki jo ki vah apne bachcho ki shadi apne pasnd ke sath karna chahte hai. is liye ve apne ladke/ladki ki manpasnd ki shadi ka virodh karte hai aur vah nhi chahte hai ki ghar me koi apne pasnd ki shadi kare. is liye ladke/ladki manpasnd ki shadi ka qurani amal aur wazifa ka istmaal karna chate hai.

मनपसंद की शादी का क़ुरानी अमल और मंत्र
मनपसंद की शादी के लिए जब कोई लड़का या लड़की अपने माँ बाप से बात करते है तो वे लोग नाराज होने लगते है और अपनी रजामंदी नहीं देते है. क्योंकि आज भी बहुत से लोग पुराने ख्यालों के होते है जो की जो की वह अपने बच्चों की शादी अपने पसंद के साथ करना चाहते है. इस लिए वे अपने लड़के/लड़की की मनपसन्द की शादी का विरोध करते है और वह नही चाहते है की घर में कोई अपने पसंद की शादी करे. इस लिए लड़के/लड़की मनपसन्द की शादी का क़ुरानी अमल और वज़ीफ़ा का इस्तमाल करना कहते है|

Manpasand ki shadi ka qurani amal aur dua
Kya aap bhi kisi se mohabbat karte hai ya pasnd aur uske sath shadi karna chahte hai.lekin aap ke pasnd ko aap ke ghar wale napasnd kar rhe hai. ya fir aap jise pasnd karte hai aur apni humsafar banana chahte hai vah aap ke sath shadi ke liye taiyar nhi ho rha hai. to aap hamare movi ji se sampark kare. molvi baba ji ka manpasand ki shadi ka qurani amal aur wazifa ka istmaal kar ke aap asaani se aap jise pasand karte hai use shadi kar sakte hai. is amal aur wazifa ka istmaal karne se aap jise manpasnd ki shadi apne ghar walo ki marzi se kar sakte hai.

मनपसंद की शादी का क़ुरानी अमल और दुआ
क्या आप भी किसी से मोहब्बत करते है या पसंद और उसके साथ शादी करना चाहते है.लेकिन आप के पसंद को आप के घर वाले नापसंद कर रहे है|या फिर आप जिसे पसंद करते है और अपनी हमसफ़र बनाना चाहते है वह आप के साथ शादी के लिए तैयार नहीं हो रहा है| तो आप हमारे मोवी जी से संपर्क करे| मौलवी बाबा जी का मनपसंद की शादी का क़ुरानी अमल और वज़ीफ़ा का इस्तमाल कर के आप आसानी से आप जिसे पसंद करते है उसे शादी कर सकते है| इस अमल और वज़ीफ़ा का इस्तमाल करने से आप जिसे मनपसन्द की शादी अपने घर वालो की मर्ज़ी से कर सकते है|

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s