सूरह फातिहा से मोहब्बत का अमल

सूरह फातिहा से मोहब्बत का अमल


सूरह फातिहा से मोहब्बत का अमल – Surah Fatiha Se Mohabbat Ka Amal, मोहब्बत इस दुनिया का सबसे हसीं गुलाब है, आज हम आपको सूरह फातिहा से मोहब्बत की शादी और शोहर की मोहब्बत पाने का सूरह फातिहा अमल बताने जा रहे है. और हम आपको सूरह फातिहा वजीफा पढ़ने के फायदे भी बतायेगे।

Surah Fatiha Se Mohabbat Ka Amal

यदि हम मोहब्बत की बात करें तो यह अल्लाह-ताला द्वरा बख़्शी गयी इस दुनिया की सबसे बड़ी नेमत हैं| वो लोग खुसनसीब होते हैं, जिन्हें मोहब्बत की पनाह मिली होती हैं|मोहब्बत की कोई निश्चित परिभाषा नहीं होती है ना ही कोई सुरक्षित निवेश होता है|

सूरह फातिहा से मोहब्बत का अमल – Surah Fatiha Se Mohabbat Ka Amal

मोहब्बत करने वाले बहुत ही संवेदनशील होते हैं| यदि आप किसी से मोहब्बत करो और वह आपको नहीं मिल पाता है तो आप पूरी तरह से टूट जाते हैं| यदि आप खुद को सुनिश्चित और अक्षम रखना चाहते हैं तो यह बहुत जरूरी है कि आप जिस से मोहब्बत करें वही आपका हमसफर बने|

यदि आप भी अपने जीवन में मोहब्बत का सैलाब लाना चाहते हैं, तो इसमें सूरत फातिहा आपकी मदद कर सकता हैं| आइये जानते हैं कि सूरह फातिहा से मोहब्बत का अमल कैसे प्राप्त कर सकते हैं:-

  • इस प्रक्रिया में कि किसी भी व्यक्ति को पूरे खुलूस के साथ,दरूद इब्राहिमी 12 मर्तबा,सूरह फातिहा 45 छंद, और दरूद इब्राहिमी 12 मर्तबा पढे| इसके बाद सूरत फ़ातिहा के इस दुआ को पढ़ने की आवश्यकता है:-
  • “हबीब पाक सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम वली सल्लम के इष्ट वसीला”
  • आप7, 11 या 13 बार दिन में दृढ़ विश्वास के साथ नमाज़ के बाद इस दुआ को पढ़े। अंतमेंअल्लाह-ताला से अपने लिए मोहब्बत की दुआ करें।
  • “हबीब पाक सल्ललाहु तआला अलैहि वाही अलहि वा सल्लम, इंशाअल्लाह अज्जावजल के एहसान वसेल्लाह”यह सूरत फातिहा के छंद अद्भुत रहस्य देने वाले हैं (युवा पुरुषों और युवा महिलाओं के लिए व्यवहार्य)|
  • इस वजीफ़ा के तिलस्मी प्रभाव से आपके जीवन में एक नेक दिल बंदा ढेर सारी मोहब्बत के साथ आएगा और आपके जीवन में खुशियों का रंग भर देगा|

शौहर की मोहब्बत पाने का सूरह फातिहा अमल

शौहर की मोहब्बत पाने का सूरह फातिहा अमल – Shohar Ki Mohabbat Pane Ka Surah Fatiha Amal, सूरज के उगने से लेकर सूरज ढलने तक, आप और आपका जीवनसाथी बिना रुके चलते रहते हैं। आपका व्यस्त जीवन और आपकी टू-डू सूची की हर चीज आपके समय, ऊर्जा और भावनाओं का उपभोग करती है।

अपने बच्चों की देखभाल करने, घर को बनाए रखने और जीविकोपार्जन के बीच, आपके लिए अपने शौहर की मोहब्बत को पाना इतना आसान नहीं है।

यदि आप सावधान नहीं हैं, तो आप दोनो के बीच में धीरे-धीरे फ़ासले बढ़ जाएंगे| यही कारण है कि यह इतना महत्वपूर्ण है कि आप अपने जीवनसाथी के साथ जुड़ने के बारे में हर बिन्दु पर विचार करें और उन्हें उसी तरह से लुभाने का प्रयास करें जैसे पहले आप किया करती थी|

यहाँ “शौहर की मोहब्बत पाने का सूरह फातिहा अमल” के बारे में चर्चा की गयी हैं, जो आपको इस कार्य में मदद करेगा|

शौहर की मोहब्बत पाने का सूरह फातिहा अमल–सूरह फातिहा में इस्लाम के मूल विश्वासों का निर्माण करने वाले कुछ सबसे आवश्यक तत्व शामिल हैं| वैसे तो ये कुरान कि छोटी आयतों में से एक हैं, लेकिन इसका बहुत ही महत्व हैं|

Shohar Ki Mohabbat Pane Ka Surah Fatiha Amal

सूरह फातिहा अमल की युक्तियाँ आपके पति को आपके साथ प्यार में पागल रखने के लिए हैं, जो कि इस प्रकार से हैं:-
“साउंदीकर हक्की सय्यदीना वा मौलाना मुहम्मदीविन ‘वा अरली अजमीन।“

उपयुक्त सूरत फातिहा अमल हमारे जीवनसाथी को हमारी तरफ आकर्षित करते हैं|इस अमल को आप प्रतिदिन सुबह कि नमाज़ के बाद कम से कम 22 मर्तबा दुहराये|
15 दिनों के अंदर यह अमल अपना असर दिखाने लगेगा| आपके शौहर का झुकाव आपकी ओर पहले के जैसे होने लगेगा|
आप अपने शौहर के मोहब्बत की तपिश को अपने रोजाना की आम ज़िंदगी में महसूस कर पाएँगी|

सूरह फातिहा से मोहब्बत की शादी

सूरह फातिहा से मोहब्बत की शादी – Surah Fatiha Se Mohabbat Ki Shadi, यदि आप अपने पसंद के लड़के या लड़की से शादी करना चाहते हैं और इसमें किसी भी प्रकार का अड़चन आ रहा हो अथवा आपके वालीदेन इस शादी के लिए राजी ना हो, तो उन्हें मनाने के लिए आप सूरहफ़ातिहा अमल का इस्तेमाल कर सकते हैं| आइये हम जानते हैं कि इस अमल के इस्तेमाल में हमें क्या-क्या करना चाहिए|

सूरह फातिहा से मोहब्बत की शादी– यह कवायद सिर्फ युवा महिलाओं या पुरुषों के लिए है, जो अपनी पसंद की शादी करना चाहते हैं| इसके लिए आपको 21 दिनों के दिन में 11 बार नीचे दिये हुए दुआ को किसी भी समय सोने से पहले तक पढ़ना होंगा|

आप चाहे तो निकाह के दिन तक और अंत तक इस दुआ को मांग सकते हैं, लेकिन इसका दुरुपयोग नहीं किया जाना चाहिए। इंशा अल्लाह अज़वाज़ल आपको अल्लाह के वसीयतनामा (जीवनसाथी) के रूप में मनपसंद शौहर/बीवी मिलेगी|

Surah Fatiha Se Mohabbat Ki Shadi

“वा मिन कुलाय शाइइन ज़ोवजैनी ला अल्लाकुम तजाकरुना। अल्लाह हम्मा बी हक़की क़ुव्लिका हाज़ा वा बी हुरमती नब्बियिका मुहम्मदी सल्लाहु लाला ता‘आला अलैहि| वल्ली अल सल्लाह तर्ज़ुक़ानी (युवती/युवक का नाम) ) ज़ुवजन सलीहम मुवाफ़िक़ान ग़ैरा मुहालिफ़ीन|”

यह कहा जाता है कि सूरए फातिहा में सभी मुद्दों के जवाब हदीस में दिए गए हैं। आपकी सच्ची श्रद्धा और निष्ठा की बस जरूरत हैं, बाकी का काम सूरत फ़ातिहा का अमल खुद-ब-खुद कर देगा|

सूरह फातिहा वजीफा पढ़ने के फायदे

सूरह फातिहा वजीफा पढ़ने के फायदे – Surah Fatiha Wazifa Padhne Ke Fayde, सूरह फातिहा को फातिहातुल किताब (किताब का उद्घाटन) और उम्मुल किताब (किताब की मां) कुरान की पहली सूरह (अध्याय) भी कहा जाता है। केवल 7 छंदों और 29 शब्दों के साथ,यह कुरान के सबसे लोकप्रिय सूरह में से एक है, जिसेहर दिन अपनी अनिवार्य दुआओं में मुसलमानों द्वारा दस बार सुनाया जाता है,

जो एकेश्वरवाद, भविष्यवक्ता और उसके बाद के विश्वास हैं। इसे आध्यात्मिक और शारीरिक, मानसिक बीमारी अथवा किसी भी भौतिक परेशानियों के इलाज के रूप में सुनाया जाता है और इसे सेवक और अल्लाह के बीच एक सीधा प्रेम संबंध माना जाता है।सूरह फातिहा पढ़ने के कुछ फायदों को हम निम्नलिखित बिंदुओं द्वारा समझने का प्रयत्न कर सकते हैं:-

Surah Fatiha Wazifa Padhne Ke Fayde

  • हर बार जब आप सूरह फातिहा का पाठ करते हैं, तो आप इस तरह से सुरह फातिहा के छंद के साथ बिस्मिल्लाह के पनाह में शामिल होंगे-
  • “बिस्मिल्ला हिर रहमान नीर मिल हमलो लिल्हा रूहगे रब्बिल अलेमीन”|
  • यहाँ इस सूरह के साथ आप अलह्मदोलिल्लाह के साथ “बिस्मिल्लाह की आगोश” में शामिल हो गये। इसलिए यह सूरह जन्नत का रास्ता दिखाने वाला होता हैं|
  • उस बिंदु पर आप “आर रहमान नीर रहिम”… .. 5 मर्तबा (हर बार जब आप सूरह फातिहा पर चर्चा करेंगे) को पढ़ कर भी अल्लाह की इबादत कर पाएंगे|
  • प्रत्येक अंक के लिए प्रत्येक हाजत यह आग की तरह काम करता है। क्या आप कभी 9 दिन या उससे अधिक सूरह फ़ातिहा को पढ़ कर देखा हैं| यह बेहद ताकतवर है कि इससे आपका कोई भी नुकसान नहीं होगा और यह सुनिश्चित करेगा की आपकी सारी मुरादे अल्लाह-ताला की दुआ से पूरी हों जाए|

आज हमने इस लेख में सूरत फ़ातिहा के द्वारा अमल के इस्त्माल को जाना हैं|यह आदर्श स्थिति होगा यदि आप इसके साथ आगे बढ़ें जब तक कि आपका हाजत नहीं दिया जाता है।

यह सच में बहुत ही ताकतवर सूरह हैं, जो आपकी हर रजा को पूरा करने में सक्षम हैं|आप के जीवन में यदि किसी भी प्रकार का कोई कष्ट हैं, तो आपके लिए यह लेख बहुत कारगर हैं| अल्लाह-ताला आपकी हर मुराद को पूरी करेंगे| आमीन|

If you need any type of help and Guidance talks to us without any hesitation. In Sha Allah we will solve your problem.

Enquiry Form

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s