दुश्मन को बीमार करने का अमल

दुश्मन को बीमार करने का अमल


Jab koi vyakti apne jeevan me Kisi vyakti ke sath ldayi jhagda karta hai to dhire- dhire uske sath uska
rista kharab hone lagta hai aur Vah ek dusre se nafart karne lagte hai. Jise ki un logo ke beech dushmani bad jati hai aur vah ek dusre ke liye khatra ban jate hai. Jo jyada takatwaar hota hai Vah hamesha apne
dushman par bhari pad jata hai. Lekin jo kamjore hote hai vah apne dushman se mukabla karne me asmarth rahte hai is liye ve log dushman ko bimar karne ka amal ka istmaal karna chahate hai.

Dushman ko bimar karne ka amal
दुश्मन को बीमार करने का अमल:- जब कोई व्यक्ति अपने जीवन में किसी व्यक्ति के साथ लड़ाई झगड़ा करता है तो धीरे- धीरे उसके साथ उसका रिश्ता ख़राब होने लगता है और वह एक दूसरे से नफरत करने लगते है|जिसे की उन लोगो के बीच दुश्मनी बढ़ जाती है और वह एक दूसरे के लिए खतरा बन जाते है|जो ज्यादा ताकतवर होता है वह हमेशा अपने दुश्मन पर भरी पड़ जाता है|लेकिन जो कमजोर होते है वह अपने दुश्मन से मुकाबला करने में असमर्थ रहते है इस लिए वे लोग दुश्मन को बीमार करने का अमल का इस्तमाल करना चाहते है|

Dushman ko bimar karne ka totka
Kisi ke sath dushmani hone se jeevan me kayi tarah ke musibte aane lagti hai aur hamesha jeevan me samsya hone lagti hai.kyoki jab Kisi ka dushman use jyada takatavar hota hai to vah use mukbala karne me asmrth hote hai. is liye ve log koi aisa upay karna chahte hai jise ki apne dushman ko bimar kar ke use barbaad kar ske aur sabak shikha ske. Lekin unhe samajh nhi aat hai ki vah kya kare aur kya na kre. Is liye ve dushman ko bimar karne ka amal ki janakari ke liye kisi molvi ji ka talas karte hai.

दुश्मन को बीमार करने का टोटका
किसी के साथ दुश्मनी होने से जीवन में कई तरह के मुसीबते आने लगती है और हमेशा जीवन में समस्या होने लगती है|क्योंकि जब किसी का दुश्मन उसे ज्यादा ताकतवर होता है तो वह उसे मुकबला करने में असमर्थ होते है|इस लिए वे लोग कोई ऐसा उपाय करना चाहते है जिसे कि अपने दुश्मन को बीमार कर के उसे बरबाद कर सके और सबक सिखा सके|लेकिन उन्हें समझ नहीं ात है की वह क्या करे और क्या न करे|इस लिए वे दुश्मन को बीमार करने का अमल की जानकारी के लिए किसी मौलवी जी का तलस करते है|

Dushman ko bimar karne ka mantra
Aj hum aap ka talas ko khatam kar ke dushman ko bimar karne ka amal ke bare me bta rhea hai. jise ki aap istmaal kar ke apne dushman ko bahut bimar kar sakte hai aur uske kiye huye karnamo ka saja de sakte hai. to kya aap apne dushman ke vajah se pareshan hai aur aap use bimar kar apna badla lena chahate hai to aaj hi hamare baba ji se mile. Baba ji ka dushman ko bimar karne ka amal ka istmaal kar ke aap asaani se apne jeevan se use hameaha ke liye apne se door kar sakte hai. is amal ki jankair ke liye aaj hi hamare baba ji se mile.

Dushman ko bimar karne ka mantra
आज हम आप का तलस को खत्म कर के दुश्मन को बीमार करने का अमल के बारे में बता रही है|जिसे की आप इस्तमाल कर के अपने दुश्मन को बहुत बीमार कर सकते है और उसके किये हुए कारनामो का सजा दे सकते है|तो क्या आप अपने दुश्मन के वजह से परेशान है और आप उसे बीमार कर अपना बदला लेना चाहते है तो आज ही हमारे बाबा जी से मिले|बाबा जी का दुश्मन को बीमार करने का अमल का इस्तमाल कर के आप आसानी से अपने जीवन से उसे हमेअह के लिए अपने से दूर कर सकते है|इस अमल की जान्काइर के लिए आज ही हमारे बाबा जी से मिले|

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s